कानपुर : बारिश के मौसम में Kanpur के जलभराव पर राजनीति…

waterlogging of Kanpur
Kanpur

कानपुर:। वैसे तो बारिश के मौसम ने कई राज्यों के जिलों में बाढ़ की नौबत ला दी है लेकिन आज हम आपको एक ऐसी हकीकत बताने जा रहें हैं, जिसको लेकर सीधे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के मुखिया यानी आदित्यनाथ योगी से झूठ बोल दिया गया। 

यह हकीकत है उस कानपुर की जहां से देश की सबसे बड़ी योजना नमामि गंगे की नींव रखी गयी थी, जिसमें प्रधानमंत्री समेत ग्यारह राज्यों के मुख्यमंत्री ने कानपुर में शिरकत की थी और तो और जिसमे सबसे बड़ा रोड़ा बना खलासी लाइन का नाला और उस नाले से होने वाले जलभराव की समाप्ति पर चिंतन जताया गया था,जिसको लेकर सरकार ने बजट भी पास किया था।

लोगों के लिए आफत बना  नाला

सरकार के बजट पास करने के  बाद अधिकारियों ने जांच शुरू की और कार्य को पूरा करते हुए मोहर भी लगा दी,लेकिन आज वही नाला फिर से लोगों के लिए आफत बना हुआ है।
आलम ऐसा है कि रात से हो रही बारिश के पानी से भरा नाला सड़क के बराबर उफना गया है। यहां तक कि पूर्व मंत्री प्रेम लता कटियार के घर के अंदर तक पानी भर चुका था, जिस पर अब राजनीति शुरू हो चुकी है।

क्योंकि जैसे ही एक रात की बारिश ने नगर निगम की पोल खोल कर रख दी,वैसे ही बीजेपी से बीजेपी मेयर प्रमिला पांडेय ने पूरा ठीकरा नगर निगम अधिकारियों के सिर मढ़ दिया लेकिन कुछ घण्टो बाद राजनीति नौटंकी शुरू करते हुए ट्रेक्टर से प्रेम लता कटियार के घर पहुंच गई और जनता को रिझाने के लिए अपने आप को किसान की बेटी बताना शुरू कर दिया। 

अब आप भी सोच रहें होंगे कि एक संवैधानिक पद पर बैठी एक मेयर इस तरह की हरकत कैसे कर सकती हैं, क्योंकि उन्हें अपने पद की गरिमा रखनी चाहिए,तो सुनये उन्होंने ऐसा इस लिए किया, क्योंकि मेयर द्वारा लगातार लगाए जा रहे आरोपों को सुनते हुए बड़ी जांच बैठ सकती थी। 

जिसमें कई अधिकारियों के साथ साथ कई नेता मंत्रियों के नाम खुल सकते थे और खुद प्रमिला पांडेय भी लपेटे में आ सकती थी। इसलिए कानपुर के जलभराव पर हो रही थू थू से बचने के लिए राजनीति मोटिवेशन शुरू कर दिया गया।

रिपोर्ट:-दिवाकर श्रीवास्तवा…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here