PM Modi ने किया राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र का उद्घाटन, गांधीजी और स्वच्छता को लेकर कही यह बातें

National Sanitation Center
image source - google ।image by dna

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज Delhi में राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र के उद्घाटन के लिए पहुंचे। स्वच्छ भारत मिशन के तहत एक इंटरएक्टिव एक्सपीरियंस सेंटर है। यहां पर प्रधानमंत्री ने स्वच्छ भारत मिशन पर एक लघु Video देखा। इसके बाद पीएम ने संबोधित किया।

अपने संबोधन में PM Modi ने कहा कि आज का दिवस हिंदुस्तान के इतिहास में अंग्रेजों भारत छोड़ो का है, हम अभियान चला रहे हैं ‘गंदगी भारत छोड़ो’। इतिहास में आज की तारीख का बहुत महत्व है। 8 August 1942 को ही गांधी जी की अगुवाई में आजादी के लिए एक विराट जन आंदोलन शुरू हुआ था। जिसमें अंग्रेजों भारत छोड़ो का नारा लगा था।

राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र बापू को देशवासियों की तरफ से श्रद्धांजलि

ऐसे ऐतहासिक दिवस पर राज घाट के समीप, राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र का लोकार्पण अपने आप में बहुत प्रासंगिक है। ये केंद्र बापू के स्वेच्छाग्रह के प्रति 130 करोड़ भारतीयों की श्रद्धांजलि है, कार्यांजलि है। राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र सत्याग्रह की प्रेरणा से स्वेच्छाग्रह की हमारी यात्रा को आधुनिक Technology के माध्यम से दर्शाया गया है।

Gandhi Ji कहते थे “स्वराज सिर्फ साहसी और स्वच्छ जन ही ला सकते हैं।” स्वच्छता और स्वराज के बीच के रिश्ते को लेकर गांधी जी इसलिए अश्वस्थ थे, क्योंकि उन्हें विश्वास था कि गंदगी अगर सबसे ज्यादा नुकसान किसी का करती है तो वह गरीब है। जब तक जनता में आत्मविश्वास पैदा नहीं होगा तब तक वह आजादी के लिए खड़ी कैसे हो सकती है थी? इसलिए South Africa से लेकर चंपारण और साबरमती आश्रम तक उन्होंने स्वच्छता को ही अपने आंदोलन का बड़ा माध्यम बनाया।

PM Modi ने आगे कहा कि जिस तरह गंगा जी की निर्मलता को लेकर हमें उत्साहजनक परिणाम मिल रहे हैं। वैसे ही देश की दूसरी नदियों को भी हमें गंदगी से मुक्त करना है। यहां पास में ही Yamuna जी हैं, Yamuna जी को भी गंदे नालों से मुक्त करने के अभियान को हमें तेज करना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here