ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ पर चीन का पक्ष लेने का लगाया आरोप, फंडिंग रोकने पर विचार

trump on WHO
Image Source - Google

कोरोनावायरस को लेकर पिछले कुछ दिनों से अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप डब्ल्यूएचओ पर आरोप लगा रहे है कि डब्ल्यूएचओ चीन को कुछ नहीं कह रहा है। जबकि कोरोनावायरस चीन से ही निकला है। इसी को लेकर जब डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रॉस गेब्रेयेसस से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि कोविड-19 को लेकर राजनीति करना सही नहीं है। हमें एक दूसरे की कमी निकालने में समय बर्बाद नहीं करना चाहिए। कोरोना को लेकर ऐसा करना आग से खेलने जैसा है।

ट्रंप की डब्ल्यूएचओ को धमकी

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि हम डब्ल्यूएचओ की इज्जत करते हैं लेकिन उन्होंने इस मामले में सही जानकारी नहीं दी। मै कहना चाहूंगा कि उन्होंने हर मामले में गलत जानकारियां साझा की हैं। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि कोरोना कोई बड़ी समस्या नहीं है। मेरे द्वारा लिए गए फैसले को डब्ल्यूएचओ ने गलत बताया और बाद में उनको एहसास हुआ कि मेरे द्वारा लिए गए फैसले सही थे।

भारत ने कि अमेरिका की मदद, ट्रंप ने कहा दोस्तों के बीच घनिष्ठ सहयोग..

ट्रंप ने कहा कि ”हम डब्ल्यूएचओ को फंडिंग करते हैं। लेकिन अब हमें इसके बारे में सोचना होगा। ऐसा लगता है, डब्ल्यूएचओ चीन का पक्ष लेता है। हम इसकी जांच कराएंगे और देखेंगे की फंडिंग रोकनी चाहिए या नहीं।” बता दें कोरोनावायरस को लेकर चीन और अमेरिका एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। अमेरिका का कहना है कि यह चीन की साजिश है और चीन का कहना है कि अमेरिका द्वारा कोरोना वुहान शहर में प्लांट किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here