अमेरिका का नया ड्रोन,एक बार में आधी दुनिया की कर सकता है जासूसी

...खास बात तो ये है की इसको उड़ाने के लिए अलग से कोई सिस्टम तैयार नहीं किया गया है

nato drone
image source - google

अमेरिका ने एक ऐसा ड्रोन बनाया है जो अभी तक के ड्रोन से सबसे ज्यादा आधुनिक माना जा रहा है। ये एक जासूसी करने वाला ड्रोन है जिसे अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के कहने पर खास तौर पर बनाया गया है। इसको nato (नार्थ एटलांटिक ट्रीटी ऑर्गेनाइजेशन) ने बनाया है जोकि एक सैन्य संगठन है। इसकी स्थापना 04 अप्रैल 1949 को हुई थी।

➤ नाटो ने अनमैंड सर्विलांस ड्रोन को बनाया है।
➤ एक बार ईंधन भरने पर आधी दुनिया का सफर तय कर सकता है।
➤ 30 घंटे से ज्यादा समय तक हवा में रह सकता है।
➤ 16 हजार किलोमीटर से ज्यादा इसकी रेंग है।
➤ 60 हजार फुट की उचाई तक ये उड़ान भर सकता है।

गणतंत्र दिवस पर इस बार दिखेंगे, वायु सेना को बाहुबली बनाने वाले लड़ाके

किसी भी इलाके की जासूसी करने के लिए ये सेंसर और राडार का उपयोग करता है। इस ड्रोन को उड़ाने के लिए नाटो के हेड क्वाटर में इसका कॉकपिट बनाया गया है। जिसमे दो लोग होते है एक सेंसर ऑपरेटर और दूसरा पायलेट। खास बात तो ये है की इसको उड़ाने के लिए अलग से कोई सिस्टम तैयार नहीं किया गया है। ये ड्रोन सामान्य कंप्यूटर या लैपटॉप से उड़ाया जा सकता है और इसके लिए माउस का उपयोग किया जाता है। ड्रोन से ली गयी तस्वीर को विश्लेषण के लिए भेजा जाता है। इसमें कोई हथियार नहीं लगाया गया है। इस ड्रोन को बनाने में 10 करोड़ डॉलर का खर्च हुआ है और ये एक निगरानी करने वाला ड्रोन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here