लद्दाख में भारत और चीन सैनिकों के बीच हुई धक्का-मुक्की

➤ दोनों देशों की सीमाओं पर अतिरिक्त सैन्य बल की तैनाती की गई।
➤ तनाव कम करने के लिए ब्रिगेडियर रैंक की फ्लैग मीटिंग का आयोजन किया गया।
➤ भारत और चीन सैनिकों में हुई थी धक्का-मुक्की।
➤ इससे पहले भी चीनी सैनिकों से हो चुकी है कहा सुनी।

पैंगोंग झील के पास भारतीय और चीनी सैनिकों में धक्का-मुक्की हो गई जिसके बाद दोनों देशों के बीच सीमा पर तनाव देखने को मिला। और दोनों देशों ने लद्दाख में अपनी-अपनी सीमाओं पर तैनात सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है। आपको बता दें कि इससे पहले भी ऐसी झड़प दोनों देशों के सैनिकों में हो चुकी है।

क्या है पूरा मामला

दरअसल जब भारतीय सैनिक अपने क्षेत्र में गश्त कर रहे थे तो पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर चीन के पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के सैनिकों से सामना हुआ जिसके बाद बात इतनी बढ़ गई कि दोनों देशों के सैनिकों में धक्का-मुक्की तक हुई। और सीमा पर अतिरिक्त सुरक्षाबलों को तैनात करना पड़ा।

लद्दाख बॉर्डर पर भारत और चीनी सेना के बीच फिर से भिड़ंत, सैनिकों के बीच हुई धक्का-मु्क्की

पेंगोंग झील पर पहले भी हो चुका है आमना सामना

पेंगोंग झील लद्दाख में हिमालय में स्थित है। जिसकी ऊंचाई लगभग 4500 मीटर है व इसकी लंबाई 134 किलोमीटर है जो भारत के लद्दाख से तिब्बत पहुंचती है। इस झील के दो तिहाई हिस्से पर चीन की सेना तैनात रहती है। और बाकी हिस्से पर भारतीय सेना तैनात रहती है। अक्सर चीनी सैनिक झील में गश्त करने के दौरान भारतीय सीमा में दाखिल होने की कोशिश करते रहते हैं जिसकी वजह से भारतीय सैनिकों के साथ उनकी कहासुनी कई बार हो चुकी है और धक्का-मुक्की भी।

तनाव कम करने के लिए हुई मीटिंग

दोनों देशों के सैनिकों में धक्का-मुक्की के बाद तनाव को कम करने के लिए ब्रिगेडियर रैंक की फ्लैग मीटिंग का आयोजन किया गया। और सीमा पर अतिरिक्त बल की तैनाती कर दी गई है तथा मीटिंग में दोनों पक्षों की तरफ से तनाव को कम करने की सहमति व्यक्त की गई।