यूपी में हुए एनकाउंटर पर ओवैसी का विवादित बयान, कहा मारे गए 37% मुस्लमान

disputed statement of Asaduddin Owaisi
image source - google

कहते है कि अपराधी और आतंकवादियों की कोई जाती नहीं होती। इस लिए उन्हें जाती या धर्म के आधार पर सजा नहीं देनी चाहिए। इस बात को खुद AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी भी कह चुके है।

लेकिन उन्होंने एक विवादित बयान दिया है। जिसमें उन्होंने धर्म के आधार पर अपराधियों के मारे जाने के आंकड़े एक जनसभा के सामने रखे।

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि UP में सरकार बनी और 2017 से 2020 के दरमियान 6475 एनकाउंटर हुए। जिसमें से 37% मुस्लमान थे। उत्तर प्रदेश में मुसलमानों की आबादी 18 से 19% के दरमियान है। आखिर ये जुलम क्यों?

BSP सुप्रीमों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर कही ये बड़ी बात

अब सवाल ये उठता है कि असदुद्दीन ओवैसी ने जो पहले बयान दिया था कि अपराधी का कोई धर्म या जाती नहीं होती वो उसे मानते है या जो इस बार बयान दिया है उसे? असदुद्दीन ओवैसी देश में एक बड़े नेता के तौर पर देखे जाते है और इन्हे करोड़ों लोग फॉलो भी करते है। इसके साथ ही AIMIM पार्टी प्रमुख भी है। ऐसे में इस तरह के बयान देना क्या उचित है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here