आज से 5 दिन तक ‘पीठाधीश्वर’ की भूमिका में नजर आएंगे मुख्यमंत्री योगी

गोरखपुर वासियो के लिए बड़ी और ख़ुशी की खबर ये है कि उनके पीठाधीश्वर और सांसद रहे वर्तमान में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरक्षपीठ के उत्तराधिकारी योगी आदित्यनाथ आज शनिवार को गोरखपुर दौरे पर आएंगे। सरकारी कार्यक्रम के अनुसार सीएम योगी दोपहर (3.35) बजे गोरखपुर पहुंचेंगे। वो अगले पांच दिन तक गोरखनाथ मंदिर में रहेंगे। यहां से वो 9 अक्टूबर की सुबह लखनऊ के लिए वापस रवाना होंगे।आज से 5 दिन तक पीठाधीश्वर’की भूमिका में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नजर आएंगे।

इसके पहले सीएम ने मंदिर में नवरात्र के पहले दिन कलश पूजा में शिरकत की थी। बता दें कि गोरखनाथ मंदिर में शारदीय नवरात्र भव्य रूप में मनाया जाता है।गोरखनाथ मंदिर से मिली जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री योगी अगले पांच दिन तक मंदिर में ही प्रवास करेंगे। इस दौरान वो नवरात्र में अष्टमी की पूजा करेंगे और वहीं नवमी के दिन कन्या पूजन एवं भोज का कार्यक्रम होगा। वो कुंवारी कन्याओं का पूजन करने के बाद उन्हें भोज कराएंगे। और दक्षिणा देकर विदा करेंगे। दशमी के दिन सुबह पहले तिलक होगी। जिसमें भक्त उन्हें तिलक लगाते हैं और वो भक्तों को तिलक लगाते हैं। उसी दिन शाम को मंदिर से भव्य शोभा यात्रा निकलेगी जो मानसरोवर मंदिर जाएगी।

Navratri 2019: नवरात्र के दूसरे दिन इस तरह करें देवी ब्रह्मचारिणी की पूजा, पाएं नवरात्र का फल

अष्टमी के दिन शस्त्र पूजा

मंदिर प्रबंधन से मिली जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री योगी यहां भगवान शिव का दर्शन करने के बाद पीठाधीश्वर रामलीला मैदान में जाकर भगवान राम का राज्याभिषेक करेंगे। फिर उनका जुलूस मंदिर आएगा, जहां सहभोज भी होगा इसके पहले मुख्यमंत्री ने मंदिर में नवरात्र के पहले दिन कलश पूजा में शिरकत की थी। बता दें कि गोरखनाथ मंदिर में शारदीय नवरात्र भव्य रूप में मनाया जाता है। शारदीय नवरात्र में मुख्यमंत्री योगी नौ दिन तक व्रत रखकर माता की पूजा-अर्चना करते है। शारदीय नवरात्र में योगी अपने भवन से बाहर नहीं निकलते हैं। अष्टमी के दिन शस्त्र की पूजा की जाती है।

नाथ पीठ की परंपरा में है ये करना शामिल

आपको बता दे कि योगी आदित्यनाथ नाथ पीठ से जुड़े है और परंपरा है कि गोरक्षपीठाधीश्वर को कलश स्थापना के बाद पूरे नवरात्र अपने आवास में ही निवास करना होता है। हालांकि मुख्यमंत्री पद के दायित्व को देखते हुए योगी आदित्यनाथ के लिए ऐसा करना संभव नहीं है लेकिन वो जब तक मंदिर में रहेंगे अपने आवास से बाहर नहीं निकलेंगे।