15 जिलों के लिए नियुक्त नोडल अधिकारियों के साथ सीएम ने की बैठक, जारी नए दिशा-निर्देश

cm yogi meeting with nodal officers
image source - google

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऐसे 15 जिलों में नोडल अधिकारी नियुक्त किए हैं, जिनमें 20 या 20 से अधिक कोरोना संक्रमित मरीज है। जिन 15 जिलों में नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए हैं उनके नाम –

आगरा – आलोक कुमार, प्रमुख सचिव अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास

फिरोजाबाद – अनिल कुमार, प्रमुख सचिव, होमगार्ड विभाग

लखनऊ – दीपक कुमार, प्रमुख सचिव, आवास एवं शहरी नियोजन

रायबरेली – मुकेश कुमार मेश्राम, मंडलायुक्त, लखनऊ

मेरठ – टी. वेंकटेश, प्रमुख सचिव, सिंचाई एवं जल संसाधन

गाजियाबाद – सुधीर गर्ग, प्रमुख सचिव वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन

गौतमबुद्ध नगर – नरेंद्र भूषण, मुख्य कार्यपालक अधिकारी, ग्रेटर नोएडा

बुलंदशहर – अनीता मेश्राम, मंडलायुक्त, मेरठ

कानपुर नगर – सुरेश चंद्रा, प्रमुख सचिव, श्रम एवं सेवायोजन विभाग

मुरादाबाद – मनोज सिंह, प्रमुख सचिव, समाज कल्याण विभाग

बिजनौर – अजय चौहान, आवास आयुक्त

अमरोहा- सेंथिल पांडियन सी., प्रबंध निदेशक, उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत उत्पादन निगम

सहारनपुर – पी. गुरुप्रसाद, आबशामली – संजय कुमार, मंडलायुक्त, सहारनपुर

बस्ती – धीरज साहू, परिवहन आयुक्त

यूपी: लॉक डाउन का पालन करते हुए शुरू हुए कार्य

उत्तर प्रदेश के जो नागरिक अन्य राज्यों में 14 दिनों का क्वॉरेंटाइन पूरा कर चुके हैं। उनको कैसे वापस लाया जाए। उसके लिए कार्ययोजना बनाने के निर्देश मुख्यमंत्री ने दिए हैं। साथ ही प्रदेश में वापस लाने के बाद उनको घर कैसे भेजा जाए, इसके लिए भी कार्य योजना बनाने को कहा गया है। इन सभी को वापस क्वॉरेंटाइन किया जाएगा।

अस्पतालों को लेकर निर्देश

जिन अस्पतालों को कोविड-19 से निपटने के लिए तैयार किया गया है। उनमें सिर्फ कोविड-19 के ही मरीज जाएं इसके अलावा अन्य कोई मरीज नही जाए। जिन लोगों को कोविड-19 नहीं है। वे साधारण अस्पतालों में ही जाकर अपना इलाज कराएं। इस आदेश का सख्ती के साथ पालन कराने को कहा गया है। इसके साथ ही कोविड-19 के लेवल वन अस्पतालों में ऑक्सीजन की व्यवस्था हर हाल में की जाए और level-2 के हॉस्पिटल में वेंटिलेटर की व्यवस्था हो और लेवल 3 में तो पहले से ही वेंटीलेटर्स रहते हैं।

हॉटस्पॉट को लेकर पहले के ही तरह नियम सख्त रहेंगे। इनमें पुलिसकर्मी और पुलिस अधिकारी लगातार पेट्रोलिंग करते रहेंगे। इन में तैनात पुलिसकर्मियों को भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने को कहा गया है। इसके साथ ही मेडिकल, सैनिटाइजेशन और होम डिलीवरी के अलावा और किसी को आने-जाने की अनुमति नहीं दी गई है।

About Author

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here