यूपी उप मुख्यमंत्री ने कानपुर जिले को दी विकास की सौगात,जाने क्या होगा नया

Keshav Prasad Maurya (Deputy Chief Minister)
Keshav Prasad Maurya (Deputy Chief Minister)

कानपुर। वैश्विक महामारी कोरोना के दौरान बंद पड़ी सभी परियोजनाओं का लोकार्पण करने कानपुर पहुंचे उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य। उप मुख्यमंत्री ने विपक्षी पार्टियों पर जमकर निशाना साधा और अपने सम्बोधन में उन्होंने कहा कि चाहे अखिलेश यादव हो या राहुल गांधी या फिर मायावती हो। सन 1962 में चीन के साथ लड़ाई में जो क्षेत्र भारत ने गवा दिए थे। आज वहां पर भारत के वीर सैनिकों ने उन चोटियों पर फिर से तिरंगा लहरा दिया। फिर भी मोदी जी का विपक्षी पार्टियां विरोध कर रही है।

उप मुख्यमंत्री ने सड़को का किया लोकार्पण

यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य  ने घाटमपुर तहसील में सड़कों का लोकार्पण करने के बाद उन्होंने अपने बयान में कहा की भाजपा की कमलारानी वरुण के निधन होने के बाद उनके सम्मान और श्रद्धांजलि देने के लिए दो मार्गो का नाम उनके नाम पर रक्खा जायेगा।

Keshav Prasad Maurya (Deputy Chief Minister)
Keshav Prasad Maurya (Deputy Chief Minister)

उन्होंने बताया कि 71 परियोजनाएं है जिनकी लंबाई 212 किलोमीटर है। इन परियोजनाओं पर 242 करोड़ की लागत आएगी।

उप मुख्यमंत्री ने सपा बसपा और कांग्रेस पर साधा निशाना 

सपा बसपा और कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधते हुए केशव मौर्य ने कहा कि वो घर बैठे बैठे ट्वीट कर देते है। उनको लगता है कि वो ट्वीट करते रहेंगे और जनता उनके ट्वीट को पढ़कर उनका समर्थन करेगी। अखिलेश यादव राहुल व प्रियंका और मायावती को यह भ्रम है कि ट्विटर से राजनीति होती है। लेकिन ऐसा नही है।जब कोरोना का संकट आया तब प्रधानमंत्री जी ने सेवा की दृष्टि से काम किया।रोज कमाने और खाने वाले लोगो के सामने जब संकट आया तब भाजपा के लोगो ने उनकी सेवा करी। लेकिन जो लोग टिपड़ीं करते है वो कही दिखाई नही पड़े।

करोड़ो की परियोजनाओं का किया लोकार्पण 

परियोजनाओं का लोकार्पण करने के बाद मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि कानपुर और घाटमपुर विधानसभा में एक मार्ग का लोकार्पण दिवंगत कमला रानी वरुण के नाम पर किया गया है।

kanpur news
kanpur news

जो विपक्षी पार्टियां बेरोजगार है।उनको अभी रोजगार नही मिलने वाला है। जनता भाजपा के कामो से खुश है और साथ मे है। विपक्ष रचनात्मक आलोचना निभाएगी तो हो सकता है कि जनता उनको महत्व दे। लेकिन जिस तरह का आचरण वो करते है। तो जनता समझदार है और आगे भी उनको पराजय का सामना करना पड़ेगा ।

रिपोर्ट दिवाकर श्रीवास्तव

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

13 − 8 =