सात दिनों में खाली करने होंगे 200 से अधिक पूर्व सांसदों को सरकारी बंगले

बहुत से पूर्व सांसदों ने 16वीं लोकसभा के भंग होने के बाद अभी तक सरकारी बंगलों को खाली नहीं किया है। उन सभी पूर्व सांसदों को सात दिनों के भीतर सरकारी बंगले खाली करने का आदेश दिया गया है। इन सभी सांसदों क तादाद 200 से अधिक है। जो सरकारी आवास में रह रहे हैं| यदि खाली न किया तो बंद हो जाएगी बिजली और पानी की आपूर्ति। 

आवास समिति के अध्यक्ष सी आर पाटिल ने सारे पूर्व सांसदों को सात दिनों के भीतर सरकारी आवास खाली करने का आदेश दिया  है।  अधिकारियों ने कहा है कि तीन दिन में इन आवासों पर बिजली और पानी की आपूर्ति को बंद कर दिया जाएगा| नियम ये है कि लोकसभा भंग होने के बाद एक महीने के अंदर सरकारी बंगले खाली करना होता है। लेकिन लोकसभा के इन 200 से अधिक सांसदों ने अभी तक बंगले खाली नहीं किए हैं।  2014 से ये सभी साँसद इन बंगलों में रह रहे हैं|

इंस्पेक्टर लक्ष्मी चौहान के खिलाफ कोर्ट ने एनबीडब्ल्यू किया जारी

नवनिर्वाचित सांसदों को अस्थाई आवास आवंटित किये गए।

लोकसभा के चुनाव जीतने वाले नए सांसद अस्थाई आवासों में रह रहे हैं| इन नवनिर्वाचित सांसदों को वेस्टर्न कोर्ट में अस्थाई आवास दिए गए हैं| सभी पूर्व सांसदों के बंगले लुटियंस दिल्ली में हैं| जब तक नए सांसदों को लुटियंस दिल्ली में सरकारी आवास आवंटित नहीं होगा तब तक वो अस्थाई आवासों में ही रहेंगे| 17वीं लोकसभा में 260 सांसद से अधिक हैं जो पहली बार चुने गए हैं| इनमे पूर्व टीवी धारावाहिक की प्रसिद्ध कलाकार स्मृति ईरानी, पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर, सूफी गायकार हंसराज हंस, बंगाल की अभिनेत्रियां नुसरत जहाँ तथा मिमी चक्रवर्ती और केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद शामिल हैं|