Lakhimpur Kheri: कोरोना की चपेट में आने शुरू हुए बच्चे, देखें आंकड़े

Corona delta plus variant
Image source Google

लखीमपुर खीरी में इन दिनों कोरोना वायरस संक्रमण ग्राफ हालांकि कम हुआ है लेकिन छोटे बच्चों कोरोना संक्रमण अधिक देखा जा रहा है पिछले एक हफ्ते में 2 से 14 वर्ष के 30 बच्चों में कोरोना संक्रमित निकलने से जिले में चिंता का विषय बन गया है। इसको लेकर प्रशासन ने डोर टू डोर स्कैनिंग की व्यवस्था लागू कर दी है।

लखीमपुर खीरी में पिछले एक हफ्ते में 30 बच्चे कोरोना संक्रमित मिले है। सबसे ज्यादा पलिया तहसील में एक ही परिवार के 3 बच्चे समेत नगर में 14 बच्चों का कोरोना संक्रमित मिलने से शहरवासियों के लिए चिंता का विषय बना हुआ है जिले में जिले में पलिया में 14 , पसगवां में 4 बच्चे ,धौरहरा में 3 ,फरधान में 2 ,सदर कोतवाली में 4,मोहम्मदी में 2 ,निघासन में 1 बच्चे,ये सभी बच्चे 2 वर्षो से 14 वर्षीय है ।

इतने बच्चों में मिला संक्रमण

जिले के जिलाधिकारी शैलेंद्र सिंह का कहना है जिले में अब तक 20 हजार के करीब कोरोना संक्रमित मिले हैं जिसमें से 1 से 5 वर्ष की उम्र के 309 बच्चे और 6 से 11 वर्ष के 532 बच्चों में और 12 से 18 वर्ष के 984 बच्चों में Corona वायरस का संक्रमण पाया गया है, कुल 18-25 बच्चो में संक्रमण मिला है 2 बच्चो की कोरोना संक्रमण से मौत हुई है।
हम आप के माध्यम से लोगों से अपील करना चाहते हैं इस समय कोरोना वायरस संक्रमण का फेस टू है बच्चों में संक्रमण में अधिक देखा जा रहा है खास तौर पर बच्चों और बुजुर्गों को घर से निकलने ना दें और कोविड 19 नियमों का पालन करें जो कोविड 19 के नियमों का पालन नहीं करेगा उनके खिलाफ कार्रवाई करके हम कहां नियमों का पालन करवाएंगे।

बढ़ी पहलवान सुशील कुमार की मुश्किलें, कोर्ट ने अग्रिम जमानत याचिका की खारिज व दिल्ली पुलिस ने..

जिले के माने जाने चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉक्टर अजय अवस्थी का कहना है इस समय उनके पास बच्चे कोरोना संक्रमण से मिलते जुलते लक्षण बच्चो अधिक देखने को पाए जा रहे हैं उनके पास जो बच्चे आते हैं उनमें खांसी, जुकाम ,तेज बुखार ने निमोनिया जैसे लक्षण देखने को मिल रहे हैं इस समय अभिभावकों को को बच्चों की विशेष रूप से देखभाल करनी चाहिए क्योंकि बच्चे बाहर निकलने पर मास्क का अधिक प्रयोग नहीं कर पाते हैं जिसके चलते हैं उन्हें संक्रमण में खतरा अधिक रहता है कोशिश करें के छोटे बच्चे घर से बाहर घूमने के लिए ना निकले अगर किसी बच्चे में लक्षण मिलता है तो उन सरकारी अस्पताल में कोविड-19 जाँच तुरन्त करवानी चाहिए किसी भी तरह की ढिलाई नहीं बरतनी चाहिए, क्योंकि कोरोना संक्रमण इस समय तेजी से फेफड़ों में फैल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here