पानी में डूबी बलिया जेल, कैदियों को भेजा गया दूसरे जनपद

चार-पांच दिन से लगातार हो रही भारी बारिश के कारण जिला कारागार परिसर पूरी तरह जलमग्न हो गया है। कैदियों की सुरक्षा को देखते हुए उच्चाधिकारियों के निर्देश पर सभी कैदियों को आसपास के जिला कारागार में सोमवार की सुबह से स्थानांतरण किया गया। यूपी में लगातार हो रही बारिश से अब तक 100 से ज्यादा लोगों की मौतें हो चुकी हैं और जगह-जगह जलभराव के हालात हैं।

यही हाल बलिया जिला जेल का भी है। जिससे परेशान होकर प्रशासन ने कैदियों को आजमगढ़ व अंबेडकरनगर जेल में शिफ्ट किया है। जेल में जलभराव होने के कारण वहां के बंदियों को आजमगढ़ जेल और अंबेडकर नगर जेल ट्रांसफर किया गया। 500 बंदियों को आजमगढ़ जेल ट्रांसफर किया जा रहा और 400 को अंबेडकर नगर जेल। आज 2 बजे तक बलिया जेल ख़ाली करा दिया जाएगा। बंदियों का ट्रांसफर कड़ी सुरक्षा और आलाधिकारियों की देख देख में किया जा रहा है।

गोरखपुर में कैदियों के बवाल बाद जागा जेल प्रशासन

इस दौरान भारी मात्रा में पुलिस फोर्स मौजूद रही। डीआईजी मनोज तिवारी, एसपी देवेन्द्र नाथ व एडीएम की उपस्थिति में कैदियों को जेल से निकाल बसों से पुलिस सुरक्षा में भेजा गया। इस दौरान पूरा क्षेत्र एसपी पुलिस छावनी में तब्दील रहा। 500 कैदियों को आजमगढ़ व अन्य को अम्बेडकर नगर जेल भेजा गया इसमें महिला कैदी भी शामिल रही।

कैदियों में भड़का आक्रोश, चेता प्रशासन

बलिया में पिछले कई दिनों सेहो रही बारिश चारो तरफ आफत आ गयी है। अब तक तो फसल बर्बादी और मकानों के ढहने से लोगों को बचाने की कवायद चल रही थी। कटान वाले इलाकों लोगों को निकाला जा रहा था लेकिन बारिश के पानी ने शहर में फैलना शुरू किया तो स्थिति बेकाबू होने लगी। दुर्दशा के शिकार हुए जेल में निरुद्ध बंदी जिनकी कोई सुनने वाला भी नहीं था। बारिश का पानी पहले जेल के भीतर और इसके बाद बंदियों के बैरको में भी घुस गया है। जेल के बंदियों में आक्रोश को देखते हुए जेल प्रशासन ने पंप सेट लगाकर निकालने का प्रयास भी किया लेकिन बाहर चारो तरफ नालियां पानी से भरा हुआ है। एडीएम ने स्वीकार किया कि बारिश के चलते यहां निरुद्ध 900 में से 500 बंदियों को आजमगढ़ जेल भेजा जा रहा है।

लगातार हो रही बारिश के कारण जेल परिसर सहित बैरकों में पानी भर गया है। जेल पुरानी होने के कारण कैदियों की सुरक्षा को देखते हुए जेल अधीक्षक प्रशांत मौर्या ने उच्चाधिकारियों को जेल में लगतार पानी बढ़ता देख कैदियों के लिए खतरा बताया। जेल के आधे से अधिक बंदियों को शिफ्ट किया जा रहा है। यही स्थिति पुलिस आफिस की हो चुकी है जहां जल भराव के चलते रविवार को रिकार्ड सुरक्षित स्थान पर रखने की मशक्कत चल रही थी।