कैसे हुई बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी की शुरुआत ?

भारतीय क्रिकेट टीम इस समय ऑस्ट्रेलिआ के दौरे पर है। भारत और ऑस्ट्रेलिआ के बीच प्रस्तावित बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला का तीसरा मैच आज सिडनी में खेला जा रहा है। अभी तक दोनों टीमें एक-एक टेस्ट जीतकर बराबरी पर चल रही हैं। आज सुबह ऑस्ट्रेलिआ ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए समाचार लिखे जाने तक 2 विकेट के नुकसान पर 166 रन बना लिए हैं।

लेकिन क्या आप को पता है कि इस बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी की शुरुआत कब और कैसे क्यों हुई ?

इस ट्रॉफी का नाम भारत और ऑस्ट्रेलिआ के दो पूर्व कप्तान और महान टेस्ट खिलाडियों के नाम पर है जिनके नाम टेस्ट क्रिकेट में सबसे पहले 10000 रन बनाने का रिकॉर्ड है। ये खिलाड़ी है एलन बॉर्डर और सुनील गावस्कर। वर्ष 1996 में ऑस्ट्रेलिआ और भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने मिलकर संयुक्त रूप से इस ट्रॉफी की नींव रखी।

इस ट्रॉफी के अंतर्गत प्रत्येक वर्ष 4 टेस्ट मैच खेले जाते हैं। जो टीम श्रृंखला जीतती उसके पास ट्रॉफी रहती है अगली श्रृंखला तक।
सीरीज ड्रा होने की सूरत में ट्रॉफी पूर्व विजेता के पास ही रहती है। वर्त्तमान में यह ट्रॉफी भारतीय टीम के पास सुरक्षित है। पिछली लगातार दो सीरीज में भारत ने 2-1 ऑस्ट्रेलिआ को हराया था। इस बार ऑस्ट्रेलिआ ट्रॉफी जीतने में कोई कसर नहीं रखना चाहती।

अभी तक कुल 14 बार इस सीरीज का आयोजन हो चुका है जिसमें 8 बार भारत को जीत मिली है। तो वहीं 5 बार ऑस्ट्रेलिआ को श्रृंखला जीतने में क़ामयाबी मिली है। एक सीरीज अनिर्णित समाप्त हुई है।

 

 

सचिन तेंदुलकर अभी तक के सबसे सफल बल्लेबाज रहे हैं उन्होंने अपनी 65 परियों में कुल 3262 रन ठोके हैं। जबकि अनिल कुंबले ने 20 मैचों में लगभग 30 की औसत से 111 विकेट चटकाकर सबसे सफ़ल गेंदबाज रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen − 9 =