API Full Form : What is API, How does it work, Full details

application programming interface
google

API Full Form : इसके बारे में बहुत से लोगों ने पढ़ा और बहुत से लोगों ने सुना होगा लेकिन कई लोगों को API Full Form के बारे में जानकारी तक भी नहीं होगी। तो आइये दोस्तों आज मै आप लोगों को बताता हूँ कि API क्या है, कैसे काम करता है और इसका Full Form क्या है। दोस्तों API का पूरा नाम Application Programming Interface है। यदि आप कंप्यूटरमें रूचि रखते हैं और इसके बारे में ज़्यादा से ज़्यादा जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो आपके लिए API के बारे में भी जानकारी हासिल करना ज़रूरी है।

API एक Software Code है जो भिन्न भिन्न Software Programs को आपस में communicate करने के लिए उपयोग में लाया जाता है। API Full Form से ही ऐसा लग रहा है कि यह Application को Program करने वाला एक Interface है मतलब कि यह एक इस प्रकार का system है जिसके माध्यम से आपका Application काम करता है।

 API Full Form

API Full Form is application programming interface और यह कोड का एक ग्रुप होता है जो किसी निश्चित काम के लिए develop किया गया है और यह एक ढाँचे की भांति काम करता है।

Bhu naksha up : उत्तर प्रदेश भू नक़्शे की ऑनलाइन प्रतिलिपि

What is API ?

API एक ऐसा interface है जो दो चीज़ों को आपस में जोड़ने का काम करता है। मतलब अगर आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल में कोई भी एप्लीकेशन खोलते हैं और यह एप्लीकेशन जब इंटरनेट से जुड़ती है तो वह Server को Data सेंड करता है और Server उसे रिसीव करता है। इसके बाद आपने जिस Data के लिए रिक्वेस्ट भेजा है Server उसको आपके कंप्यूटर या मोबाइल पर वापस सेंड करता है। यह सारा काम किसी न किसी API के ज़रिये से होता है। इसका मतलब यह है कि API के बगैर किसी भी Application को नहीं चलाया जा सकता है।

उदाहरण के तोर पर आप मान लीजिये कि किसी कैफे में आप गए हुए हैं जहाँ पर आपके सामने एक मेनू आएगा। इस मेनू से सेलेक्ट कर के वहाँ के वेटर को आपने पाइन एप्पल फ्लेवर्ड कोल्ड कॉफी का आर्डर दिया। अब यह वेटर उस कैफे के रसोई घर में जाकर कॉफी बनाने वाले व्यक्ति से पाइन एप्पल फ्लेवर्ड कोल्ड कॉफी बनाने के लिए कहेगा। कोफ़ी बनने के बाद वह वेटर दुबारा आपके पास आएगा और आपके द्वारा आर्डर की हुई पाइन एप्पल फ्लेवर्ड कोल्ड कॉफी आपको देगा।

अब इस उदाहरण में पाइन एप्पल फ्लेवर्ड कोल्ड कॉफी एक एप्लीकेशन है जिसे आपने चालू किया था और वेटर एक API है जो आपके और रसोई घर में कार्य कर रहे लोगों के बीच में कार्य कर रहा है। वेटर आपके द्वारा भेजे गए डाटा को रसोई घर तक लेकर जाता है अर्थात रसोई घर यहाँ पर Server है और आप एक यूज़र हैं जो डाटा सेंड करता है। बात अगर कंप्यूटर की भाषा में की जाए तो API किसी ऐप को Develop करते समय एक ऐसा जरिया प्रदान करता है जिससे उस ऐप को आसानी से चलाया जा सकता है।

कितना सुरक्षित है API ( How Safe is to use API )

दोस्तों अब तक आप लोग यह समझ गए होंगे कि API हमारे द्वारा चलाई जाने वाली किसी भी एप्लीकेशन को सर्वर से जोड़ने का काम करता है और भेजे गए डाटा की आवश्यक क्रियाओं को वापस आपके फोन या कंप्यूटर में लाता है। अब सवाल यह उठता है कि जो डाटा आप किसी सर्वर पर भेज रहे हैं तो उसको ले जाने वाला API कितना सुरक्षित है? तो मै आपको बता दूँ कि जब आप अपने एप्लीकेशन से कोई सन्देश सर्वर पर भेजते हैं तो API सिर्फ वो ही जानकारियां लेकर जाता है जो आप अपने एप्लीकेशन पर करना चाहते हैं।

मान लीजिए आप ट्वीटर पर कोई वीडियो अपलोड करना चाहते हैं तो API सिर्फ वीडियो को अपलोड करने से सम्बंधित जानकारियां ही सर्वर को पहुंचाएगा जिसके बाद ट्वीटर आपकी वीडियो को अपलोड कर देगा। इसका मतलब यह है कि एक एप्लीकेशन पर कई प्रकार का डाटा होता है उनमे से आप जिस डाटा की रिक्वेस्ट करते हैं सिर्फ वो ही डाटा सर्वर के पास जाएगा और उससे सम्बंधित काम आप कर पाएंगे। कोई अन्य डाटा सर्वर के पास बिलकुल भी नहीं जाता है।

आज इंटरनेट के दौर में API की बहुत ही ज़्यादा अहमियत है और यह लगभग सभी बड़ी बड़ी कम्पनियो का एक अहम हिस्सा बन चुका है। आज Google, Ebay, Amazon, Wikipedia आदि जैसी कई बड़ी कंपनी इसका इस्तेमाल कर रही हैं। बहुत सी कंपनिया इससे रूपए भी कमा रही हैं जिसको हम लोग API अर्थव्यवस्था भी कह सकते है।

IGRSUP 2020 : जाने कैसे करें ऑनलाइन संपत्ति पंजीकरण

Types of API

API कई प्रकार के होते है और सभी के अलग अलग काम होते है। इन सभी को बनाने का समय और इनकी कार्यक्षमता भिन्न भिन्न होती है और सभी कंपनिया अपनी ज़रूरत के हिसाब से अपने API पर कार्य करती है। कार्यविधि के आधार पर यह निम्नलिखित प्रकार के होते हैं।

  1. Procedural API : यह सॉफ्टवेयर हैंडलर की तरह काम करते हैं मतलब कि यह उस सर्वर के पास जाते है जो उसको हैंडल करता है। यह किसी फाइल को खोलने के लिए एक सामान्य इंटरफ़ेस की तरह काम करता है जिससे उस फाइल को खोला जा सकता है। इनको RPC Implementaions के माध्यम से पूरी तरह हैंडल किया जाता है।
  2. Object Oriented API : सिस्टम ऑब्जेक्ट्स के कठिन काम करने और उनको सर्वर तक पहुचाने के लिए इनका इस्तेमाल होता है और यह बाहर अधिक लोड उठा सकते हैं। यह बाकी बहुत से API सिस्टम से काफी तेज़ व ताकतवर होता है और यह यह सार्वजानिक तौर पर भी काम करता है।
  3. Service Oriented API : एप्लीकेशन के द्वारा किये जाने वाले बहुत से प्रोटोकॉल्स जैसे सेवाओ और कार्यो सर्वर तक पहुचाने के लिए यह जिम्मेदार होते है। इस तरह के API आमतौर पर व्यापारी विभाग की ऐप और वेबसाइट जैसे कि अमेज़न तथा फ्लिपकार्ट पर Shopping, Discounts आदि के लिए इस्तेमाल किये जाते हैं।
  4. Resource Oriented API : इसके नाम से ही पता चल जाता है कि यह एक संसाधन की तरह काम करता है। जब आप किसी सॉफ्टवेयर या एप्लीकेशन को खोलते है तो यह API डाटा को इकठ्ठा कर के सर्वर पर ले जाता है। महंगी वेब हॉस्टिंग्स के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है और इसीलिए सभी कम्पनियाँ इसका इस्तेमाल करती हैं जिससे वह पूरी तरह सुरक्षित रहती हैं।

API के प्रसिद्ध उदाहरण

दोस्तों इंटरनेट पर बहुत सारे API हैं और आज मै आपको इसके कुछ बहुत ही प्रसिद्ध उदाहरण बताऊंगा जिनके बारे में शायद आप लोगों को जानकारी ना हो।

  1. Google Maps API : इस को मोबाइल तथा डेस्कटॉप Browsers के लिए बनाया जाती है जिससे programmers गूगल मैप्स को वेब पेजेस में डाल सकते है।
  2. YouTube API : गूगल की Youtube API की मदद से YouTube videos तथा उनके अन्य function को websites और Application में डाला जाता है। इससे आप अपने फोन में Youtube का इस्तेमाल आसानी से कर सकते हैं।
  3. E-commerce API : आज कई E-commerce वेबसाइट इंटरनेट पर उपलब्ध हैं और इन सब के लिए अलग अलग API जैसे कि Product Advertising API, Product Information API भी मौजूद हैं।
  4. Payment Gateway API : इनका उपयोग करके विक्रेता पेमेंट को सही तरह से प्रोसेस कर सकते है और इससे आप सभी को ट्रांजेक्शन पूरा करने में काफी आसानी होती है।
  5. Mob API : मोबाइल ऐप को develop करते समय Hardware से सहभागिता के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। प्रोग्रामर Android-based device का front camera आदि बनाने में इसका इस्तेमाल करते हैं।
  6. Windows OS API : विंडोज में मल्टीमीडिया से सम्बंधित काम को मैनेज करने के लिए Microsoft DirectX की API के कलेक्शन का इस्तेमाल किया जाता है। जैसे गेमिंग, ग्राफ़िक डिजाइनिंग आदि।

PMEGP क्या है? PMEGP Lone कैसे लें, जाने पूरी Detail

Use of API

  1. Time Saving : इनकी सहायता से आप किसी भी कार्य को लगभग ऑटोमेटेड कर सकते हैं और इससे आप सभी का बहुत समय बच जाता है।
  2. Efficiency : यह हर तरह की Complexity को कम करते हुए easy interface प्रदान करता है और इससे प्रोडक्ट की efficiency काफी बढ़ जाती है।
  3. Automation : API में मशीनों का आपस में Interaction होता है और इसलिए किसी भी Information के लिए एक दूसरे से interact करने की जरूरत नहीं पड़ती है।
  4. Partnership और Business : API के इस्तेमाल से कोई भी बिज़नेस आसान हो जाता है और कंपनियों के बीच में पार्टनरशिप भी बढ़ती है। कंपनी जैसे जैसे तरक्की करती है वैसे वैसे API की मदद से बिज़नेस इनफार्मेशन को भी शेयर किया जा सकता है।