उन्नाव के बढ़ते विवाद में पुलिस ने किसानों को बेरहमी से पीटा

image suorce-google

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में किसानों द्वारा किया जा रहा प्रदर्शन ख़त्म होने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार वहां की स्थिति बिगड़ती नजर आ रही है। किसानो का गुस्सा बढ़ता ही जा रहा है। किसान अपनी माँग पर अड़े है। उनका कहना है की चाहे हमारी जान ही क्यों न चली जाये लेकिन हमें जब तक अपना हक़ नहीं मिलेगा तब तक हम लगातार ये प्रदर्शन करते रहेंगे। ऐसे में वहाँ की स्थिति इतनी ख़राब हो गई है की पुलिस प्रसाशन को मजबूरी में आकर किसानों पर लाठी बरसानी पड़ रही है।

उन्नाव के किसानों से मुलाकात करेगा सपा का प्रतिनिधि मंडल

वही इसी मामले पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट कर कहा की उप्र सरकार को उन्नाव में पिछले कई दिनों से चल रहे जमीन मुआवजे के विवाद लगातार उलझते जा रहे मामले को जमीन मालिकों के साथ बैठकर जल्दी सुलझाना चाहिए ना कि उनके ऊपर पुलिस लाठीचार्ज व उनका शोषण आदि कराना चाहिये जो अति-निन्दनीय है। इसे सरकार को अति गम्भीरता से लेना चाहिये।

आपको बता दे की यह मुद्दा अब केवल किसानो का मुद्दा नहीं रह गया है। बल्कि एक राजनितिक मुद्दा बन गया है। इस विवाद को लेकर सभी प्रदेश सरकार के खिलाफ बोल रहे है।इसी विवाद को लेकर वहीं यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा कि, ‘उत्तर प्रदेश में किसानों को ट्रांस गंगा सिटी प्रोजेक्ट की ज़मीन के उचित मुआवज़े की जगह भाजपा की लाठी मिल रही है। गन्ने का मूल्य नहीं मिल रहा खड़ी फसल आवारा पशु खा रहे हैं देश में अन्नदाताओं की आत्महत्याएं बढ़ती जा रही हैं ,क्या भाजपा के राज में विकास की यही परिभाषा है।

यह विवाद लगातार बढ़ता ही जा रहा है। उन्नाव विवाद को लेकर विपक्षी नेता लगातार पुलिस प्रशासन तथा योगी सरकार पर उँगलियाँ उठा रहे है। यह मामला एक राजनितिक मामला बनता जा रहा है। हालांकि इस मामले में अभी तक कोई बीच का रास्ता नहीं निकल पाया है। वहीं दूसरी तरफ उन्नाव के ज़िलाधिकारी हालात को पूरी तरह से काबू में बता रहे हैं। मीडिया से बातचीत में डीएम ने कहा हम गांवों में जाएंगे और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करेंगे।