शिया मौलाना ने मुख्यमंत्री से की निर्दोषों की रिहाई की मांग

CAA protest
google

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शिया मौलाना कल्बे जव्वाद नकवी ने उनके अवास पर मुलाकात किया और उनसे बेगुनाहों की रिहाई की मांग किया। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) तथा भारतीय राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन को लेकर 19 दिसंबर प्रदेश के कई हिस्सों मे ज़बरदस्त बवाल हुआ था। इस हिंसक प्रदर्शन के बाद लगातार गिरफ्तारियां हों रही हैं जिसमे कई निर्दोष लोगों को भी पकड़ा गया है।

इमामे जुमा मौलाना कल्बे जव्वाद नकवी ने देश भर मे हो रहे शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शनों मे हुई हिंसा और निर्दोषों की गिरफ्तारी की निंदा किया और मुख्यमंत्री योगी से बेकुसूर लोगों की रिहाई की मांग किया। उन्होंने मुख्यमंत्री को पुलिस द्वारा निर्दोष लोगों के खिलाफ की जा रही कार्यवाई की जानकारी दी और उनको एक ज्ञापन भी सौंपा। इस ज्ञापन में मौलाना ने बेगुनाह लोगों की रिहाई और दर्ज किये गए फ़र्ज़ी मामलों को रद्द करने के लिए कहा है। शिया मौलाना ने कहा कि सीएए और एनआरसी पर हुए विरोध प्रर्दशनों मे जिन लोगों ने बवाल किया पुलिस को सिर्फ उन लोगों पर कार्रवाई करना चाहिए लेकिन पुलिस बेगुनाह लोगों को पकड़ रही है तथा उन लोगों पर फ़र्ज़ी मुक़दमे दर्ज कर रही है।

CAA और NRC पर शिया मौलाना ने की संयम बरतने की अपील

मौलाना कल्बे जव्वाद ने मुख्यमंत्री योगी से कहा कि उनको फ़र्ज़ी गिरफ्तारियों की खबरें मिल रही हैं और लोग उनके पास आकर बता रहे हैं कि पूरे देश में पुलिस इस तरह का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि मुजफ्फरनगर में हौज़ाए इल्मिया इमाम हुसैन अस. मदरसे में पुलिस ने घुसकर छात्रों तथा शिक्षकों के साथ बरर्बता की और उनपर लाठीचार्ज किया जबकि यह लोग प्रदर्शन में शामिल नहीं हुए थे और न ही कोई भी मदरसे से बाहर आया था। पुलिस ने मदरसे के बुजुर्ग आलिम पर लाठीचार्ज किया और यहाँ के छात्रों को ज़बरदस्ती गिरफ्तार कर के थाने ले गई। मदरसे के कुछ छात्र अभी तक पुलिस की हिरासत में हैं।

मौलाना ने मुख्यमंत्री से इस घटना की जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही कराने की मांग किया और बेगुनाह छात्रों को भी रिहा करवाने का अनुरोध किया है। उन्होंने योगी आदित्यनाथ से कहा कि आपके आदेशानुसार वीडियो फुटेज और तस्वीरों के आधार पर उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी लेकिन पुलिसकर्मियों ने घरों में घुसकर निर्दोष युवकों को ज़बरदस्ती हिरासत में लिया है। बेकुसूर लोगों की गिरफ्तारियां हो रही है और उनपर फर्ज़ी मामले दर्ज किये जा रहे है जोकि किसी भी तरह सही नहीं है। उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग किया कि इस मामले में निर्दोष लोगों को परेशान ना किया जाए और जिन्हे गिरफ्तार कर लिया गया है उनको जल्द से जल्द रिहा किया जाए। इस प्रकार अल्पसंख्यक लोगों में जो सरकार व पुलिस से डर वातावरण है वह ख़त्म हो जाएगा।