जानिए कैसे खुद की जान गवा कर पायलट Vasant Sathe ने बचाई यात्रियों की जिंदगियां

vasant sathe
image source - google

कल शाम Kerala के कोझिकोड में बड़ा विमान हादसा हुआ। जिसमें 18 लोगों की मृत्यु हुई और 127 से ज्यादा लोग घायल हुए। इस विमान हादसे में pilot और Co-Pilot दोनों की मौके पर ही मृत्यु हो गई थी। लेकिन इन दोनों पायलटों ने जाते-जाते कई जिंदगियां बचा ली।

Vande Bharat Mission के तहत दुबई से 174 यात्रियों को लेकर एयर इंडिया का विमान AXB1344 Boeing 737 केरल के कोझिकोड आ रहा था। Kozhikode में तीन-चार दिनों से भारी बारिश हो रही है। जिसकी वजह से runway पर पानी भरा हुआ था और यह रनवे छोटा भी था। ऐसे में विमान को लैंड कराना बहुत मुश्किल का काम था। पहली बार में Plane Land नहीं हुआ था, जिसके बाद इसकी दूसरी सुरक्षित लैंडिंग कराने का प्रयास किया गया।

वसंत साठे का अनुभव आया काम

पायलट Captain Deepak Vasant Sathe और Co-pilot Akhilesh Kumar ने आखिरी वक्त तक विमान को सुरक्षित लैंड कराने की कोशिश की। लेकिन विजिबिलिटी कम होने और runway पर पानी भरा होने की वजह से Plane फिसल गया और यह हादसा हुआ।

कैप्टन दीपक वसंत साठे Air Force के टेस्ट पायलट रह चुके हैं। बता दें टेस्ट पायलट बहुत सारे एयरक्राफ्ट को टेस्ट करते हैं। इसलिए उन्हें ज्यादा अनुभव होता है। खबर के अनुसार Vasant Sathe का यह अनुभव कल हुए हादसे में काम आया। उन्होंने Plane को लैंड कराने से पहले ही इंजन को बंद कर दिया था। जिसकी वजह से विमान में आग नहीं लगी और कई जिंदगियां बच गई।

कौन थे कैप्टन वसंत साठे

Captain Deepak Vasant Sathe 1981 में एयरफोर्स में कमीशंड हुए थे। 22 साल बाद 2003 में Air Force से रिटायर हुए। तब यह विंग कमांडर थे और 15 साल से Air India में पायलट भी थे। इनके पिता सेना में ब्रिगेडियर रह चुके हैं । कैप्टन वसंत साठे के भाई कारगिल युद्ध में शहीद हुए थे और अब vasant sathe भी शहीद हो गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here