Kaifi Azmi : Top 3 सदाबहार नज़्में

Kaifi Azmi
Image source- Gooogle

Kaifi Azmi की नज़्में

1) तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो By Kaifi Azmi

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो
क्या गम है जिसको छुपा रहे हो

आँखों में नमी, हंसी लबों पर
क्या हाल है क्या दिखा रहे हो

बन जायेंगे ज़हर पीते पीते
ये अश्क जो पिए जा रहे हो

जिन ज़ख्मों को वक़्त भर चला है
तुम क्यों उन्हें छेड़े जा रहे हो

रेखाओं का खेल है मुक़द्दर
रेखाओं से मात खा रहे हो

English:

Tum Itna Jo Muskura Rahe Ho
Kya Gham Hai Jisko Chhupa Rahe Ho

Aankhon Mein Nami, Hansi Labon Par
Kya Haal Hai Kya Dikha Rahe Ho

Ban Jayege Zehar Peete Peete
Yeh Ashq Jo Pite Ja Rahe Ho

Jin Zakhmo Ko Waqt Bhar Chala Hai
Tum Kyon Unhe Chhede Ja Rahe Ho

Rekhao Ka Khel Hai Muqaddar
Rakhao se Maat Kha Rahe Ho

Kaifi Azmi Birthday: Google ने Kaifi Azmi की 101st जयंती पर बनाया Doodle

2) दूसरा बनवास By Kaifi Azmi

“राम बनवास से जब लौट के घर में आये,

याद जंगल बहुत आया जो नगर में आए

रक्स से दीवानगी आँगन में जो देखा होगा

६ दिसंबर को श्री राम ने सोचा होगा

इतने दीवाने कहाँ से मेरे घर में आये ?

जगमगाते थे जहाँ राम के क़दमों के निशां

प्यार की कहकशां लेती थी अंगडाई जहाँ

मोड़ नफरत के उसी राहगुज़र में आये

धर्म क्या उनका था? क्या ज़ात थी? यह जानता कौन?

घर न जलता तो उन्हें रात में पहचानता कौन?

घर जलाने को मेरा, लोग जो घर में आये

शाकाहारी थे मेरे दोस्त तुम्हारे खंजर

तुमने बाबर की तरफ फेकें थे सारे पत्थर,

है मेरे सर की खता, जख्म जो सर में आये

पाँव सरयू में अभी राम ने धोये भी न थे

के नज़र आये वहां खून के गहरे धब्बे,

पाँव धोये बिना सरयू के किनारे से उठे

राम यह कहते हुए आपने द्वारे से उठे

राजधानी की फिजा आई नहीं रास मुझे,

६ दिसंबर को मिला दूसरा बनवास मुझे.”

English:

Ram banwas se jb laut ke ghar mein aaye,

Yaad jangal bahut aaya jo nagar mein aaye

raks se deewanagi aangan mein jo dekha hoga

6 December ko Shree Ram n socha hoga

itne deewane kahaan se mere ghar mein aaye ?

jagmagate the jahaan Ram ke kadmon ke nishan,

pyar ki kahakshan leti thi angdai jahan

mod nafrat ke usi rahgujar mein aaye

dharm kya unka tha? kya jaat thi? yah jaanta kaun?

ghar na jalta to unhe rat mein pahchanta kaun?

ghar jalane ko mera, log jo ghar mein aaye

shakahari the mere dost tumhare khanjar

tumne Babar ki taraf fenke the saare patthar,

hai mere sir ki khata, jakhm jo sir mein aaye

paanv saryu mein abhi Eam ne dhoye bhi na the

ke nazar aye wahaan khoon ke gahre dhabbe,

paanv dhoye bina Saryu ke kinare se uthe

Ram yah kahte hue aapne dware se uthe

Rajdhani ki fiza aai nhi raas mujhe,

6 December ko mila Doosra Banwas mujhe.

सनी देओल हुए लापता,गुमशुदा होने के लगाए गए पोस्टर

3) उठ मेरी जान By Kaifi Azmi

उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

कल्ब-ए-माहौल में लरज़ाँ शरर-ए-ज़ंग हैं आज

हौसले वक़्त के और ज़ीस्त के यक रंग हैं आज

आबगीनों में तपां वलवला-ए-संग हैं आज

हुस्न और इश्क हम आवाज़ व हमआहंग हैं आज

जिसमें जलता हूँ उसी आग में जलना है तुझे

उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

ज़िन्दगी जहद में है सब्र के काबू में नहीं

नब्ज़-ए-हस्ती का लहू कांपते आँसू में नहीं

उड़ने खुलने में है नक़्हत ख़म-ए-गेसू में नहीं

ज़न्नत इक और है जो मर्द के पहलू में नहीं

उसकी आज़ाद रविश पर भी मचलना है तुझे

उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

क़द्र अब तक तिरी तारीख़ ने जानी ही नहीं

तुझ में शोले भी हैं बस अश्कफ़िशानी ही नहीं

तू हक़ीक़त भी है दिलचस्प कहानी ही नहीं

तेरी हस्ती भी है इक चीज़ जवानी ही नहीं

अपनी तारीख़ का उनवान बदलना है तुझे

उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

गोशे-गोशे में सुलगती है चिता तेरे लिये

फर्ज़ का भेष बदलती है क़ज़ा तेरे लिये

क़हर है तेरी हर इक नर्म अदा तेरे लिये

ज़हर ही ज़हर है दुनिया की हवा तेरे लिये

रुत बदल डाल अगर फूलना फलना है तुझे

उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

तोड़ कर रस्म के बुत बन्द-ए-क़दामत से निकल

ज़ोफ़-ए-इशरत से निकल वहम-ए-नज़ाकत से निकल

नफ़स के खींचे हुये हल्क़ा-ए-अज़मत से निकल

क़ैद बन जाये मुहब्बत तो मुहब्बत से निकल

राह का ख़ार ही क्या गुल भी कुचलना है तुझे

उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

तोड़ ये अज़्म शिकन दग़दग़ा-ए-पन्द भी तोड़

तेरी ख़ातिर है जो ज़ंजीर वह सौगंध भी तोड़

तौक़ यह भी है ज़मर्रूद का गुल बन्द भी तोड़

तोड़ पैमाना-ए-मरदान-ए-ख़िरदमन्द भी तोड़

बन के तूफ़ान छलकना है उबलना है तुझे

उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

तू फ़लातून व अरस्तू है तू ज़ोहरा परवीन

तेरे क़ब्ज़े में ग़रदूँ तेरी ठोकर में ज़मीं

हाँ उठा जल्द उठा पा-ए-मुक़द्दर से ज़बीं

मैं भी रुकने का नहीं वक़्त भी रुकने का नहीं

लड़खड़ाएगी कहाँ तक कि संभलना है तुझे

उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

English:

“uth meri jaan mere saath hi chalnaa hai tujhe

qalb-e-mahoul mein larzaan sharar-e-jang hain aaj

hausley waqt ke aur ziist ke yakrang hain aaj

husn aur ishq ham aawaaz-o-humahang hain aaj

jis mein jaltaa hun usi aag mein jalnaa hai tujhe

uth meri jaan mere saath hi chalnaa hai tujhe

zindagi jehad mein hai sabr ke qaabu mein nahin

nabz-e-hasti kaa lahu kaampti baansu mein nahi

udne khulne mein hai nakhat kham-e-gesu mein nahin

jannat aik aur hai jo mard ke pahlu mein nahin

uski aazaad ravish par bhi machalna hai tujhe

uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe

qadr ab tak teri tarikh ne jaani hi nahin

tujh mein shole bhi hain bas ashkfishaani hi nahin

tu haqiqat bhi hai dilchasp kahaani hi nahiin

teri hasti bhi hai ik chiz javaani hi nahin

apni tarrikh kaa unvaan badalnaa hai tujhe

uth meri jaan mere saath hi chalnaa hai tujhe

goshey goshey mein sulagti hai chitaa tere liye

farz kaa bhes badaltii hai qazaa tere liye

qahar hai teri har narm adaa tere liye

zahar hi zahar hai duniya kii hawa tere liye

rut badal daal agar phoolnaa phalnaa hai tujhe

uth merii jaan mere saath hi chalnaa hai tujhe

tod kar rasm ke but bare qadamat se nikal

zof-e-ishrat se nikal, vaham-e-nazaakat se nikal

nafs ke khiinche hue halq-e-azmal se nikal

yeh bhi ek qaid hii hai, qaid-e-muhabbat se nikal

raah kaa khaar hi kyaa gul bhi kuchalnaa hai tujhe

uth meri jaan mere saath hi chalnaa hai tujhe

tod yeh azm-shikan dagdag-e-pand bhi tod

teri khaatir hai jo zanjir vah saugandh bhi tod

tauq yeh bhii zammrood kaa gulband bhi tod

tod paimana-e-mardaan-e-khirdmand bhi tod

banke tufaan chhalaknaa hai ubalnaa hai tujhe

uth meri jaan mere saath hi chalnaa hai tujhe

tuu falaatuno-arastuu hai tu zohraa parvin

tere qabze mein hai garduun, teri thokar mein zamin

haan, uthaa, jald uthaa paae-muqqadar se jabin

main bhii rukne kaa nahii waqt bhii rukne kaa nahin

larkhadayegii kahaan tak ki sambhalnaa hai tujhe

uth meri jaan mere saath hii chalnaa hai tujhe”

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here