अयोध्या: द्वादश महालिंगेश्वर सिद्ध महापीठ मंदिर से अयोध्या पहुंची रुद्राक्ष की माला

ayodhya news
ayodhya news

अयोध्या। राम जन्मभूमि पर मंदिर का निर्माण पूरे भारत की आस्था का विषय है। देश के कोने कोने से प्रसिद्ध और पौराणिक स्थलों के जल और मिट्टी का प्रयोग राम मंदिर ने किया जाएगा।रामलला के लिए आज बुलंदशहर के श्री द्वादश महालिंगेश्वर सिद्ध महापीठ मंदिर से विशेष रुद्राक्ष की माला आई है। इसके साथ ही अन्य 11 ज्योतिर्लिंगों के स्थल और शक्तिपीठों की मिट्टी, जल, चांदी के सिक्के और वास्तु दोष यंत्र लेकर श्री द्वादश महालिंगेश्वर सिद्ध महापीठ मंदिर के आचार्य के प्रतिनिधि अयोध्या पहुंचे हैं।बुलंदशहर के श्री द्वादश महालिंगेश्वर सिद्ध महापीठ मंदिर से रामलला के लिए विशेष रूद्राक्ष की माला दिव्य 12 ज्योतिर्जिंगों के स्थल और शक्ति पीठों की रज, जल, 11 चांदी के सिक्के, चांदी के नाग नगिन के जोड़े और रूद्राक्ष की माला समेत वास्तु दोष यंत्र श्री द्वादश महालिंगेश्वर सिद्ध महापीठ के आचार्य धर्मदत्त के प्रतिनिधियों ने  महंत नृत्य गोपाल दास को सौंपी है।

ayodhya news
ayodhya news

श्री द्वादश महालिंगेश्वर सिद्ध महापीठ के प्रतिनिधि मोहित गोमत का कहना है कि महापीठ के आचार्य धर्म दत्त पिछले करीब 11 वर्षों से अधिक समय से दिव्य मंत्रों के द्वारा एक रुद्राक्ष की माला अभिमंत्रित कर रहे थे।उन्होंने इसे रामलला को समर्पित करने का संकल्प लिया था।यह माला आज राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास को सौंपी गई है। इस माला के साथ राम मंदिर में प्रयोग के लिए 12 ज्योतिर्लिंगों के स्थल और शक्तिपीठों के जल, 11 चांदी के सिक्के, चांदी के नाग नागिन के जोड़े और वास्तु दोष यंत्र ट्रस्ट को सौंपा गया है।यह सभी वस्तुएं ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी कमल नयन दास को सौंपी गई हैं।बुलंदशहर के लोगों ने राम मंदिर का निर्माण शीघ्र पूरा होने की कामना है। उन्होंने कहा कि द्वादश ज्योतिर्लिंगेश्वर महापीठ से आया वास्तुदोष यंत्र मंदिर निर्माण की समस्याओं को समाप्त करेगा।

रिपोर्ट-बिस्मिल्लाह खान

About Author

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here