चांद धरती से कितना दूर है | Chand Dharti Se Kitna Door Hai?

Chand Dharti Se Kitna Door Hai

चांद धरती से कितना दूर है| Chand dharti se kitna door hai?

हम सभी जानते हैं कि आज चांद पर पहुंचना अब महज एक कल्पना नहीं रह गई है। (Chand dharti se kitna door hai) आधुनिक युग में यह संभव हो गया है कि मनुष्य आज चंद्रमा की यात्रा कर सकता है। जी हाँ, यह विज्ञान का ही चमत्कार है कि आज पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी (धरती से चांद की दूरी) तय करना आसान हो गया है। 1959 में चांद को देखने और समझने का मिशन शुरू किया गया था और आज इंसान चांद पर पहुंच चुका है। चांद धरती से कितना दूर है इसका सटीक अनुमान लगाना असंभव है।

 

लेकिन अंतरिक्ष वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं के अनुसार चंद्रमा की पृथ्वी से दूरी का अनुमान लगाया गया है। आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि चांद धरती से कितना दूर है, साथ ही चंद्रमा से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी तो आप हमारे इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें। आप चाहें तो google से Voice Command के जरिये से पूछ सकते हैं: Chand dharti se kitna door hai google

 

चांद धरती से कितना दूर है? (Chand dharti se kitna door hai)

चंद्रमा की पृथ्वी से दूरी लगभग 3,84,403 किलोमीटर है। यानी सरल शब्दों में कहें तो चंद्रमा की पृथ्वी से दूरी करीब तीन लाख चौरासी हजार चार सौ किलोमीटर है।

 

आपको बता दें कि चंद्रमा और पृथ्वी के बीच की दूरी हमेशा समान नहीं होती है, यह बदलती रहती है क्योंकि चंद्रमा हमेशा गतिमान रहता है, यह पृथ्वी का प्राकृतिक उपग्रह है और पृथ्वी के चारों ओर चक्कर लगाता रहता है, जिससे इसकी दूरी धरती से कभी कम तो कभी ज्यादा। चंद्रमा पृथ्वी का एकमात्र उपग्रह है और यह एक ऐसा उपग्रह है जिसका अपना कोई प्रकाश नहीं है, यह सूर्य के प्रकाश से चमकता है और अपनी धुरी पर पृथ्वी का चक्कर लगाता है। चंद्रमा को पृथ्वी की एक परिक्रमा पूरी करने में लगभग 27 दिन लगते हैं।

 

चांद का जन्म (Birth of Moon)

वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं के अनुसार, चंद्रमा का जन्म पृथ्वी की उत्पत्ति के बाद ही हुआ था। वैज्ञानिकों के अनुसार, चंद्रमा 4.50 अरब साल पहले अस्तित्व में आया था, जो पृथ्वी और थीय (मार्स के आकार का तत्व) के बीच भीषण टक्कर के बाद छोड़े गए मलबे के अवशेषों से बना था। चंद्रमा के कारण पृथ्वी रुक गई है। इसी वजह से पृथ्वी पर सूर्य और चंद्र ग्रहण होते हैं।

 

धरती से चांद तक पहुंचने में कितना समय लगता है?

अधिकांश चंद्र मिशनों को चंद्रमा तक पहुंचने में लगभग तीन दिन लगे हैं, इसके अलावा पृथ्वी से चंद्रमा तक पहुंचने में कितना समय लगता है यह भी इस बात पर निर्भर करता है कि आप जिस विमान में यात्रा कर रहे हैं उसकी गति क्या है?

 

पृथ्वी से चंद्रमा पर भेजे गए विमानों में सबसे कम गति वाला ईएसए स्मार्ट-1 एक साल, एक महीने और दो हफ्ते बाद चांद पर पहुंचा। पृथ्वी और चंद्रमा के बीच की दूरी को कवर किया गया था। यह पृथ्वी से चंद्रमा की यात्रा करने का अब तक का सबसे कम समय है।

 

चांद का आकार

चंद्रमा का आकार क्रिकेट के बालों की तरह गोल होता है और इसका अपना प्रकाश नहीं होता, यह सूर्य के प्रकाश से प्रकाशित होता है। चंद्रमा का जो भाग सूर्य के सामने होता है वह चमकीला और शेष भाग अंधकारमय दिखाई देता है। इसी कारण चंद्रमा का आकार घटता-बढ़ता रहता है।

 

चांद पर जाने वाले लोगों की सूची

चांद पर अब तक बारह लोग जा चुके हैं। आज से लगभग पचास साल पहले मानव जाति ने चांद पर पहला कदम रखा था जिसमे सबसे पहला नाम नील आर्मस्ट्रांग का है।

 

  1. नील आर्मस्ट्रांग
  2. बाज एलड्रिन
  3. पीट काॅनराड
  4. एलन बीन
  5. एलन शेपर्ड
  6. एडगर मिशेल
  7. डेविड स्काॅट
  8. जेम्स इरविन
  9. जाॅन यंग
  10. चार्ल्स ड्यूक
  11. हैरिसन शमिट
  12. जीन सर्नन

चांद की कलाओं का नाम

अमावस्या

वर्धमान बढ़ता चांद

अर्ध चंद्र

कुबड़ा बढ़ता चांद

पूर्णिमा

कुबड़ा घटता चांद

अर्ध चंद्र

वर्धमान घटता चांद

अमावस्या

 

Chand dharti se kitna door hai (FAQs)

1- चंद्रमा का तापमान कितना होता है?

उत्तर- यह पाया गया है कि चंद्रमा की विभिन्न सतहों पर अलग-अलग तापमान पाए गए हैं। चांद पर दिन और रात के तापमान में काफी अंतर होता है। दिन के तापमान की बात करें तो यह 127 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है और रात में इसका तापमान माइनस 183 डिग्री सेल्सियस तक चला जाता है।

 

2- चंद्रमा और सूर्य के बीच आकार में कौन बड़ा है?

उत्तर- सूर्य चंद्रमा से लगभग 400 गुना बड़ा है, लेकिन जब हम इसे पृथ्वी से देखते हैं, तो दोनों एक ही आकार के प्रतीत होते हैं, इसका कारण यह है कि चंद्रमा सूर्य से पृथ्वी के अधिक निकट है।

 

3- क्या चांद पर पानी है?

उत्तर- चन्द्रमा का जो भाग छाया में रहता है उसमें बर्फ के रूप में जल उपलब्ध होता है।

 

4- भारत चांद पर कब पहुंचा?

उत्तर- भारत के राकेश शर्मा ने 3 अप्रैल 1984 को पहली बार चांद पर कदम रखा था।

 

5- चन्द्रमा को पृथ्वी का एक चक्कर लगाने में कितना समय लगता है?

उत्तर- चंद्रमा को पृथ्वी का एक चक्कर लगाने में 27 दिन 7 घंटे 43 मिनट 11.5 सेकेंड का समय लगता है। चंद्रमा को अपने अक्षीय अक्ष पर एक पूर्ण चक्कर लगाने में 29 दिन 12 घंटे 44 मिनट 2.9 सेकंड का समय लगता है।

 

6- चांद पर इंसान का वजन कितना होता है?

उत्तर- चन्द्रमा पर गुरुत्वाकर्षण बल पृथ्वी की तुलना में बहुत कम होता है, जितना पृथ्वी पर व्यक्ति का भार चन्द्रमा पर 165% कम हो जाता है।

 

7- चन्द्रमा का मानचित्र सर्वप्रथम किसने बनाया था ?

उत्तर- चन्द्रमा का पहला नक्शा ब्रिटिश खगोलशास्त्री थॉमस हैरियट ने बनाया था।

 

8- चन्द्रमा के सबसे ऊँचे पर्वत का नाम और ऊँचाई क्या है?

उत्तर- हाइगन पर्वत जिसकी ऊँचाई 4700 मीटर है।

 

9- चंद्रमा का भार कितना है?

उत्तर- चन्द्रमा का भार लगभग 7.342×1022 किग्रा है।

 

10- चाँद पर चलने वाली प्रथम भारतीय महिला का क्या नाम था ?

उत्तर- पहली भारतीय महिला कल्पना चावला थीं।

 

11- चंद्रमा का प्रकाश पृथ्वी पर कितने समय में पहुंचता है?

उत्तर- अधिकतम 1 सेकंड से 1.3 सेकंड में।

 

12- क्या चांद पर जीवन संभव है?

उत्तर- चंद्रमा पर जीवन संभव नहीं है क्योंकि वहां का वातावरण हमारे अनुकूल नहीं है।

 

13- पृथ्वी की आयु कितनी है?

उत्तर- पृथ्वी 4.5 अरब वर्ष पुरानी है।

 

निष्कर्श:- हम आशा करते हैं कि अब आप जान गए होंगे कि चंद्रमा पृथ्वी से कितनी दूर है। हमने आपको इस लेख में सब कुछ विस्तार से बताया है, आपको हमारा आज का लेख कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में लिखें और अपने दोस्तों के साथ साझा करें।

इसे भी पढ़ें :-  

Sarkari Result 2022 | Latest Sarkariresult | All new Online Forms, and Govt. Jobs with portals

katmovies : Download Latest Bollywood And Hollywood Movies,TV Serial

About Author

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

7 − four =