भ्रष्टाचारी अफसरों पर योगी सरकार एक बार फिर से सख्त

Google

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार का जीरो टॉलरेंस अभी तक जारी है जिसके तहत योगी सरकार ने भ्रष्टाचारी अफसरों पर फिर से एक बड़ी कार्रवाई की है। अभी हाल ही में योगी सरकार ने भ्रष्टाचारी अफसरों पर बड़ी कार्रवाई करते हुए 600 अफसरों पर कारवाई की थी, जिसके बाद अब फिर से योगी सरकार का भ्रष्टाचारियों को लेकर सख्त रूप देखने को मिल रहा है जिसके चलते उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को भ्रष्टाचार के मामले को लेकर सख्त कारवाई की है जिसमे पंचायती राज परफॉर्मेंस ग्रांट घोटाला मामला शामिल है।

पंचायती राज परफॉर्मेंस ग्रांट घोटाले में एफआईआर दर्ज

इस मामले में जांच के पश्चात विजिलेंस ने पंचायती राज्य निदेशालय के डिप्टी डायरेक्टर समेत 5 अफसरों के खिलाफ राजधानी लखनऊ के अलीगंज थाने में धोखाधड़ी, जालसाजी, गबन, आपराधिक साजिश व भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज करवाया है।

मुख्यमंत्री और बीजेपी सरकार के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट से PCS अफसर बर्खास्त

अफसरों पर यह आरोप है की 700 करोड़ की परफॉर्मेंस ग्रांट जो की 31 जिलों के 1798 ग्राम पंचायतों के लिए दी जानी थी लेकिन बावजूद इसके इस मामले में अपात्र ग्राम पंचायतों के नाम शामिल कर ग्रांट हजम करने की थी तैयारी जिनमे से 700 करोड़ की ग्रांट में अफसरों ने 107 करोड़ खाते से निकालकर हजम भी कर लिए थे।

इसके अलावा अभी 26 जिलों के पंचायत राज अधिकारी भी विजिलेंस जांच के दायरे में हैं।