What is Technical SEO in Hindi | पूरी जानकारी हिंदी में

Technical SEO Kya Hota Hai
Technical SEO Kya Hai

क्या आप नहीं जानते हैं की Technical SEO Kya Hai और कैसे करें।  आपको बता दूँ की Technical SEO किसी भी वेबसाइट के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण फैक्टर है। ज्यादातर ब्लॉगर किसी भी साइट का SEO करते समय Technical SEO पर ध्यान नहीं देते हैं और केवल On-Page SEO और Off-Page SEO  के बारें में ही सोचते हैं। अगर आपके वेबसाइट का टेक्निकल SEO अच्छे से नहीं होगा तो आपके वेबसाइट का रैंक होना बहुत ही मुश्किल हो सकता है। आपको पता होना चाहिए कि किसी भी वेबसाइट के लिए Technical SEO On-Page SEO और Off-Page SEO से कहीं  ज्यादा महत्वपूर्ण है क्योंकि इसके बिना Technical SEO  के  सर्च इंजन आपके वेबसाइट को अच्छे से समझ नहीं पायेगा। तो चलिए Technical SEO in Hindi को विस्तार से जानते हैं : 

Technical SEO Kya Hota Hai | What is Technical SEO in Hindi

Technical SEO एक ऐसा Technique है जिसके द्वारा हम अपने वेबसाइट का SEO करके Technical और Internal Factors को सही  करते हैं और सर्च इंजन हमारे वेबसाइट को Proper Crawl करने में और Index करने में मदद करते हैं और वेबसाइट कि रैंकिंग को बढ़ाते हैं।  हमारी वेबसाइट के लिए टेक्निकल एसईओ   बहुत ही ज्यादा Important  है अगर हमारी वेबसाइट का टेक्निकल एसईओ  अच्छे से होगा तो सर्च इंजन को हमारे वेबसाइट के बारे में जानने में और क्रॉलिंग और इंडेक्सिंग करने में आसानी होगी जिससे सर्च इंजन हमारे वेबसाइट को Rewards देगा और हमारे वेबसाइट के रैंकिंग को SERP में Improve करेगा। जैसे कि हमारे वेबसाइट का Sitemap होता है ,Sitemap का मतलब होता है हमारे वेबसाइट के सारे Important पेजेज का मैप होता है। इससे सर्च इंजन को Crawl करने के लिए वेब पेजेज को ढूढ़ना नहीं पड़ता है ,उसे एक ही जगह पर हमारे वेबसाइट के सारे Pages मिल जाते हैं जिनसे Search Engine का काम आसान हो जाता है। 

अगर आप इसे रेगुलर अपडेट नहीं करते हैं तो कोई समस्या नहीं हैं लेकिन अगर आप रेगुलर अपने साइट का रोडमैप अपडेट करते हैं तो सर्च इंजन इसके लिए हमें रिवार्ड्स देता है और हमारी वेबसाइट कि रैंकिंग को और भी  ज्यादा इम्प्रूव करता है। इसी प्रकार कई सरे टेक्निकल एसईओ  फैक्टर्स है जिनके द्वारा Search Engine Result Pages में हमारे वेबसाइट कि रैंकिंग Improve होती है।  मुझे आशा है कि आपको Technical SEO Kya Hai आपको कुछ हद तक समझ में आया होगा और ये भी समझ गए होंगे कि कैसे टेक्निकल एसईओ  के मदद से हमारे वेबसाइट कि रैंकिंग इम्प्रूव होता है और टेक्निकल सो  कितना इम्पोर्टेन्ट है हमारी वेबसाइट के लिए। 

Why Need Of Technical SEO | टेक्निकल एसईओ क्यों जरूरी है|

किसी भी वेबसाइट कि सर्च इंजन में फर्स्ट पेज में रैंक करने के लिए On-Page SEO और Off-Page SEO के साथ साथ टेक्निकल एसईओ का भी ऑप्टिमाइजेशन होना काफी जरूरी है।  ये बहुत ही ज्यादा  महत्वपूर्ण है कि  आपके वेबसाइट को सर्च इंजन  अच्छे से समझे और Proper Index करे और साथ में सभी टेक्निकल एसईओ  का ठीक होना काफी जरूरी है। 

इसको भी जानें : Google AdSense Se Paisa Kaise Kamaye.

जैसे कि हमारी वेबसाइट का बहुत ही कम समय में लोड होना।  हमारे वेबसाइट के वो कौन से पेज जो सर्च इंजन इंडेक्स नहीं कर रहा है ये सर्च इंजन के क्रॉलर को बताना और अपनी को प्रॉपर तरीके से सिक्योर रखना आदि। 

Factors of Technical SEO | Technical SEO in Hindi

आपको जानकारी के लिए बता दूँ कि टेक्निकल एसईओ करना बहुत ही आसान होता है लेकिन आपको ये पता होना चाहिए कि टेक्निकल एसईओ के कौनसे फैक्टर्स हैं जिनके आधार पर हम अपने वेबसाइट को ऑप्टिमाइज़ कर सकते  हैं। तो चलिए जानते हैं कि टेक्निकल सो के वो कौनसे फैक्टर्स हैं जिनके द्वारा हम अपने वेबसाइट कि रैंकिंग को इम्प्रूव कर सकते हैं : 

 

  1. Install SSL Certificate 
  2. Create XML/html Sitemap
  3. Robot.txt file Optimization
  4. Website Design
  5. Loading Speed
  6.  Use Schema Markup
  7. Fix Broken Link
  8. Reduce Spam Score
  9. Add Canonical Tag
  10. Check Google Search Console

तो चलिए इनको सब को हम एक एक करके विस्तार से जानते हैं :

1.Install SSL Certificate

SSL Certificate बहुत ही Important Factor है क्योंकि यह हमें सिग्नल देता ही कि आपकी वेबसाइट Safe है इसीलिए हमें SSL Certificate जरूर Install करना चाहिए। अगर आप होस्टिंगर से होस्टिंग लेते हैं तो आपको यह फ्री में सेल प्रोवाइड करता है।

2. Create XML/Html Sitemap

XML Sitemap हमारी वेबसाइट के सारे पेजेज को इंडेक्स करने में Search Engine कि मदद करता है।  जितनी जल्दी हमारे वेबसाइट के पेज इंडेक्स होंगे उतनी ही ज्यादा चांस होता है. हमारी Website को First Page में रैंक होने मे। आपकी वेबसाइट का Sitemap बना है कि नहीं चेक करने के लिए आप अपने वेबसाइट के Domain के आगे slash(/) लगाकर Sitemap.xml लिखना होगा।  जैसे कि जैसे कि मुझे अपने वेबसाइट का Sitemap Check करना है तो में लिखूंगा कि awazeuttarprades.com/sitemap.xml लिखकर सर्च करेंगे । अगर sitemap बनी है तो आ जायेगा और अगर नहीं बनी है आपको Search Console के द्वारा Sitemap बनाना होगा। Sitemap बनाने के लिए गूगल सर्च कंसोल के Sitemap वाले Option में जाना होगा और वहां पर आप देखेंगे कि वहां आपके वेबसाइट का नाम पहले से आ रहा होगा बस आपको सामने खाली स्पेस में (Sitemap_index.xml) या (Sitemap.xml)  दोनों में से किसी एक को लिखकर सबमिट करना होगा और आपके वेबसाइट का Sitemap  सबमिट हो जायेगा |  

3.Robot.txt file Optimization

Robot.txt फाइल वो फाइल होती है जिसके जरिये हम सर्च इंजन को बताते हैं कि हमारे कौन से  पेजेज हैं जिन्हें सर्च इंजन को Crawl करना है और कौन से नहीं करना है। मैं  आपकी जानकारी के लिए बता दूँ कि बिना Robot.txt फाइल के आपकी वेबसाइट रैंक ही नहीं कर सकती है |Technical SEO में यह बहुत ही महत्वपूर्ण Factors  में से एक है |

4.Website Design

 वेबसाइट का डिज़ाइन बहुत ही मायने रखता है कि आपकी वेबसाइट Responsive होना चाहिए ताकि वो सारे Devices में Adjust हो सके।  आज के समय में जयादातर लोग Mobile या Tablet पर वेबसाइट को Access करते हैं इसलिए आपको अपनी वेबसाइट को Inspect करके जरूर चेक करना चाहिए। 

5.Loading Speed

Website Loading Speed SEO में बहुत ज्यादा मायने रखता है , अगर हमारी वेबसाइट का Loading Speed Slow होता है तो वेबसाइट पर Bounce Rate बढ़ने के Chances होते हैं और User का Trust कम होने लगता है और इसका असर हमारी वेबसाइट कि रैंकिंग में पड़ता है।  आप अपने वर्डप्रेस ब्लॉग या वेबसाइट कि स्पीड फ़ास्ट करने के लिए कई सारे प्लगइन उपलब्ध हैं आप उनका उपयोग करके स्पीड को  थोड़ा बहुत बढ़ा सकते हैं जैसे कि आप WP-Rocket Plugin का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

6. Use Schema Markup

 Schema Markup एक Javascript Code होता है जो कि सर्च इंजन को हमारी वेबसाइट के कंटेंट को बेहतर ढंग से समझने में मदद करता है।

7. Fix Broken Links

जब हम अपनी वेबसाइट के किसी भी पेज को डिलीट कर देते हैं लेकिन वो वेबसाइट का पेज हमारे वेबसाइट से डिलीट तो हो जाता है |लेकिन वो गूगल के डेटाबेस में उस वेब पेज का URL Indexed रहता है और जब भी कोई User उस URL पर Click करता है तो आपने देखा होगा कि 404 Error या Not found दिखाई देता है इस प्रकार के Error के लिए गूगल हमारे वेबसाइट को Negative Impact देता है वो इसलिए कि उसेर्स हमारे वेबसाइट पर जब आता है तो उसे कोई इनफार्मेशन नहीं मिलती है तो वह Exit कर जाता है। इसलिए इन Error को सही करना जरूरी है। 

8.Add Canonical Tag

अगर आपने अपने वेबसाइट के किसी पेज का URL बदल दिया हो लेकिन पुराने वाला URL गूगल में इंडेक्स हो चुका हो, तो गूगल के लिए आपके एक ही वेब पेज के 2 URL बन जाते हैं और गूगल इसे 2 अलग-अलग पेज समझता है।

जानें :  Instagram Se Paisa Kaise Kamaye?

हमारे साथ कभी कभी ऐसा होता की जब हम अपनी वेबसाइट के किसी पेज का यूआरएल को बदल देते हैं लेकिन पुराना वाला यूआरएल गूगल में इंडेक्स हो चूका हो ऐसे में गूगल के लिए हमारे एक ही वेब पेज के 2 URL बन जाते हैं और गूगल इसे 2 अलग अलग पेज समझ बैठता है। इसी के आधार  पर गूगल को लगता है की आपके दूसरे पेज में जो कंटेंट है वो पहले वाले पेज का कॉपी कंटेंट है जब एक ही वेब पेजेज के 2 अलग अलग यूआरएल बन जाते हैं तो उन्हें Canonical Issue कहते हैं। 

 

ऐसी स्थिति में गूगल को बताना बहुत जरूरी है की आपने केवल यूआरएल में बदलाव किया है लेकिन वेब पेज एक ही है और सर्च इंजन हमारे नए यूआरएल को पुराने यूआरएल से अपने डेटाबेस से रेप्लस कर दे। हाँ, इसके लिए अगर वर्डप्रेस की वेबसाइट है तो Yoast SEO Plugin के मदद से Canonical Issue को सही कर सकते हैं |

निष्कर्ष :
दोस्तों हमने इस ब्लॉग में जाना की Technical SEO Kya Hota Hai in Hindi । मुझे आशा है की आपको यह काफी पसंद आया होगा और आप अच्छी तरह Technical SEO in Hindi के बारे में सब कुछ समझ गए होंगें। इसी प्रकार Technical SEO Services बहुत सारी सर्विसेज प्रोवाइड कराता है जिसे सीख कर आप अपनी वेबसाइट को १स्ट पेज पर रैंक करवा सकते हैं।

About Author

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × two =