सुधांशु त्रिवेदी ने राज्यसभा के सदस्य पद के लिए भाजपा से दाखिल किया अपना पर्चा

भारतीय जनता पार्टी भाजपा ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश से राज्यसभा उपचुनाव राज्यसभा के लिए सुधांशु त्रिवेदी और बिहार से सतीश दुबे को उम्मीदवार बनाया है। भाजपा कार्यालय के बयान के अनुसार, ‘भाजपा ने राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी को पार्टी ने उपचुनाव में उम्मीदवार बनाया है। यह सीट अरुण जेटली के निधन के कारण खाली हुई थी। वहीं, पार्टी ने बिहार से सतीश दुबे को उम्मीदवार बनाया है। बिहार की यह सीट वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी की मृत्यु के बाद खाली हुई है।

अरुण जेटली और राम जेठमलानी का निर्वाचन 2018 में हुआ था। त्रिवेदी को भाजपा का प्रखर वक्ता माना जाता है, और वे हिन्दी एवं अंग्रेजी दोनों में अच्छे तरीके से संवाद करते रहे हैं। दूबे ने 2014 में वाल्मीकि नगर सीट से भाजपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज की थी। 2019 के चुनाव में यह सीट जेडीयू के खाते में जाने के कारण उन्होंने बागी तेवर अपनाया था। हालांकि पार्टी उन्हें मनाने में सफल रही थी। भाजपा को इन सीटों पर जीत का भरोसा है। उत्तर प्रदेश में भाजपा के पास बहुमत है। जबकि बिहार में पार्टी को जेडीयू और लोजपा का समर्थन है।

यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की राजनीति में होंगे सक्रिय

प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई सरकार में कानून मंत्री रह चुके राम जेटमनाली आरजेडी की तरफ से बिहार से राज्यसभा पहुंचे थे। दोनों राज्यों की एक- एक सीट के लिए 16 अक्टूबर को चुनाव होगा।

नाम वापसी की अंतिम तारीख 9 अक्टूबर है। 3 सेटों में दाखिल किया गया है। नामांकन पत्र एक सेट में 10 विधायकों ने प्रस्ताव किया है। नामांकन में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा समेत तमाम बड़े नेता शामिल थे। सूत्रों के मुताबिक पता चला है की सुधांशु त्रिवेदी का निर्विरोध चुना जाना लगभग तय है। इनके अलावा अभी अन्य किसी का भी नामांकन नहीं हुआ है। बता दें की अगर आज कोई अन्य राजनीतिक दल से प्रत्याशी नामांकन नही करता है तब की स्थिति में सुधांशु त्रिवेदी निर्विरोध चुन लिए जाएंगे।