मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों पर विचार गोष्ठी का आयोजन

  • मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों से जुड़े सभी विषयों पर भानुमति ने खोल दिया है पिटारा
  • इस गोष्ठी में तीन तलाक से पीड़ित महिलाएं रहेंगी भी मौजूद जो अपना अनुभव करेगी शेयर

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। इस गोष्ठी का आयोजन 19 अक्टूबर को शाम के 4.00 बजे से इंदिरा नगर के रेडियन्स बैंक्वेट के प्रथम तल पर बने सभागार में किया जाएगा। इस गोष्ठी में मुख्य अतिथि के तौर पर उत्तर पदेश सरकार के संस्कृति विभाग एवं महानिदेशक पर्यटन के सचिव आईएएस जीतेन्द्र कुमार मौजूद रहेंगे।

केंद्र सरकार द्वारा तीन तलाक के आधिकारिक तौर पर प्रतिबन्ध लगने के बाद से मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों से जुड़े सभी विषयों पर भानुमति ने पिटारा सा खोल दिया है। मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों जैसे विरासत के अधिकार, पुरुष द्वारा हलाला और बहुविवाह तथा दरगाह और मस्जिद में जाने पर मुस्लिम महिलाओं के साथ भेद-भाव पूर्ण व्यवहार आदि बहुत से विषय हैं। इस गोष्ठी में तलाक के बाद परिवार प्रधान के जेल जाने पर परिवार की देख-रेख कैसे होगी?, भारत जैसे विवधता-पूर्ण समाज में यूनिफार्म सिविल कोड क्या एक उपाय है? और वैधानिक अधिकारों से जुड़े सभा मामलों पर  समाज में मुस्लिम महिलाओं की स्थिति समेत सभी विषयों पर बातचीत होगी।

इंदिरा नगर में आयोजित की जा रही इस गोष्ठी में तीन तलाक से पीड़ित मुस्लिम महिलाएं भी मौजूद रहेंगी जो अपना अनुभव सभा में शेयर करेगी। इस मौके पर आभा सिंह के रण समर फाउंडेशन के ततधीन मे ‘स्त्री दशा और दिशा’ नाम की पुस्तक के उर्दू संस्करण का विमोचन भी किया जाएगा।