Govinda: माँ के संघर्ष ने बनाया स्टार, बिना कहानी सुने ही करते थे फिल्मे साइन

Govinda struggle story
Govinda struggle story

90 के दशक के सुपरस्टार की बात की जाए तो सबसे पहले नाम Govinda का आता हैं| जिन्होंने अपनी बैक-टू-बैक हिट फिल्मों के साथ पीढ़ियों को रुलाया, हंसाया और डांस करवाया हैं| हालाँकि अभिनेता इन दिनों फिल्मो में ज्यादा नहीं हैं लेकिन इसमें कोई शक नहीं कि वह लोगो के लिए आज भी हीरो नंबर 1 हैं| अपनी ‘Hero No. 1’, ‘Haseena Maan Jayegi’, ‘Jodi No. 1’, ‘Coolie No. 1, Dulhe Raja जैसी आइकॉनिक फिल्मो से उन्होंने लोगो का दिल जीता हैं| आज 21 दिसंबर को अभिनेता का जन्मदिन हैं और वह 57 वर्ष के पुरे हो गए हैं|

Govinda ने 1986 में फ़िल्मी करियर की शुरुवात की थी| अभिनेता का पूरा नाम Govind Arun Ahuja हैं और ये शुरुवात में कभी खुद को एक स्टार की तरह नहीं देखते थे, लेकिन डेब्यू के अगले 15 वर्षों तक, उन्हें कोई रोक नहीं पाया| उन्होंने इंडस्ट्री में एक के बाद एक हिट दी और बॉलीवुड में एक अलग ही मुकाम हासिल किया|

Govinda एक अभिनेता जोड़े से जन्मे थे

Govinda के पिता अरुण आहूजा ने इंडस्ट्री छोड़ने से पहले करीब 40 फिल्में की थीं। उनकी माँ, निर्मला देवी, एक प्रसिद्ध शास्त्रीय गायिका और एक अभिनेत्री थीं। फिर भी गोविंदा का शुरुवाती जीवन गरीबी और संघर्ष में से एक था। गोविंदा की फॅमिली मुंबई में एक बंगले में रहती थी, लेकिन उनके पिता का करियर गिरने की वजह से दिन खराब हो गए| अरुण ने एक फिल्म का निर्माण करने का फैसला किया और जब वह डूब गया तो उसे अपने कार्टर रोड निवास (बंगले) को बेचना पड़ा| जिसके बाद वह मुंबई के उपनगरीय इलाका Virar जाने के लिए मजबूर हो गए, और वहीँ गोविंदा का जन्म हुआ था।

एक इंटरव्यू के दौरान गोविंदा ने कहा हैं, कि उनका संघर्ष लंबा और कठिन था| विशेष रूप से उनकी माँ के संघर्ष को देखकर उनके लिए एक परिवार के रूप में काम करना मुश्किल था। उन्हें अपनी चार बेटियों की शादी करने जैसी ज़िम्मेदारी निभानी पड़ी। क्यूंकि मेरे पिता असफलता के साथ, बहुत टूट गए थे और वह इसे संभाल नहीं सकते थे|

नौकरी देने से मना कर दिया था

गोविंदा ने बताया था कि उन्होंने अपनी पढाई के बाद नौकरी की तलाश की थी, वह नौकरी की तलाश में एक कार्यालय से दूसरे कार्यालय जाते थे। वह एक स्टीवर्ड की नौकरी के लिए ताजमहल होटल में इंटरव्यू के लिए गए थे, लेकिन उन्हें मना कर दिया गया था| क्यूंकि वह वहां इंग्लिश नहीं बोल पाए थे|

Govinda की माँ के संघर्ष ने उन्हें स्टार बनाया हैं, जब उनसे पूछा गया तब उन्होंने बताया कि यह उनकी माँ के संघर्ष को देखकर उनका गुस्सा था जिसने उन्हें स्टार बना दिया| गोविंदा ने कहा था, “कभी-कभी, जब आपको पता चलता है कि कोई व्यक्ति जीवन के बुरे पैच से गुजरने के लिए बहुत कठिन और अकेले संघर्ष कर रहा है| विशेष रूप से एक महिला (माँ) जो अपने छह बच्चों के साथ हर चीज़ का सामना करने की कोशिश कर रही हैं| परिवार की गरिमा को बनाए रखते हुए, चार बेटियों की शादी हो रही है, यह बहुत मुश्किल है। कई तरह की घटनाएँ होतीं जिससे चोट लगती हैं| मैंने उसे इस सब से गुजरते देखा है। मैं इसे बदलना चाहता था और तेजी से बदलना चाहता था। ”

प्रोडूसर से मिलने के लिए घंटो इंतज़ार करते थे

गोविंदा के माता-पिता अभिनेता थे, लेकिन उनके स्क्रीन पर आने से पहले लगभग 33 साल का अंतर था| इसके बारे में बात करते हुए एक इंटरव्यू में गोविंदा ने बताया था, “उनके बीच 33 साल का अंतर था, फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने के बाद और मुझे 21 साल की उम्र में अभिनेता बनने का मौका मिला। इसलिए जब तक मैं इंडस्ट्री में आया, तब तक कई नए निर्माता आ चुके थे उन्हें मेरे वंश के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी। मुझे उनसे मिलने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा। मुझे समझ में आया कि वे एक निश्चित तरीके से बात या व्यवहार क्यों करते हैं लेकिन इसे कभी भी मेरे और मेरी कला के बीच नहीं आने देते।”

1986 में अपनी शुरुआत करने के एक साल बाद, केवल 22 वर्ष की आयु में, उन्होंने 50 फिल्मों के लिए साइन अप किया था| अपने संघर्ष के दिनों में, वह इतने मजबूत थे कि सफल होने के लिए उन्हें कुछ भी नहीं रोक सकता था| यहाँ तक कि गोविंदा को फिल्मो को साइन करने की ऐसी आदत थी, कि अपने करियर की शुरुआत में,वह बिना कहानी सुने ही फिल्मे साइन कर देते थे|

Govinda जुड़े थे राजनीति से

अनगिनत हिट्स देने के बाद, Govinda के करियर में 2000 के दशक में खान्स के आने के बाद बड़ी गिरावट देखी गई। गोविंदा राजनीति में भी शामिल हुए थे, 2004 से 2009 के बीच सांसद रहे। हालाँकि उन्होंने बाद में एक्टिंग करियर पर ध्यान देने के लिए अपना राजनीतिक करियर छोड़ दिया।

Shatrughan sinha ने Nepotism को लेकर उठाई आवाज़,बताया Govinda भी हो चुके है इसके शिकार

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here