विकास दुबे मामले में चौबेपुर थाना स्टाफ जांच के दायरे में, खजांची के घर पुलिस ने मारा छापा

vikas dubey case update
image source - google

उत्तर प्रदेश में इस समय गैंगस्टर विकास दुबे की तलाश में पुलिस की 100 से ज्यादा टीम लगी हुईं है। इस दौरान कई चौकाने वाले खुलासे भी एक के बाद एक हो रहे हैं। विकास दुबे के पुराने घर के मलबे में पुलिस को 3 जिंदा बम मिले हैं। जिन्हें नष्ट कर दिया गया है। इससे पहले भी इस विकास दुबे के घर से गोला-बारूद और हथियार बरामद हो चुके हैं। इसके साथ ही गांव के बीच में बने एक कुवें को भी पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया है। सूत्रों के अनुसार पुलिस इस कुएं की भी तलाशी लेगी। पुलिस को यहां से भी कुछ सुराग मिलने की उम्मीद है।

आज मंगलवार को पुलिस टीम ने विकास दुबे के खजांची के घर छापा मारा। पुलिस ने खजांची जय बाजपेई के घर से कई जरूरी चीजें मिली। इसके साथ ही विकास दुबे से संबंधित कई वंछितों के फोटो भी पुलिस ने जारी कर दिए हैं।

विकास दुबे के मामले में कई पुलिस कर्मियों के नाम सामने आ रहे हैं। शहीद सीओ देवेंद्र मिश्र की बेटी ने वर्तमान एसएसपी दिनेश कुमार को एक रिकॉर्डिंग सौंपी है। जिसमें देवेंद्र मिश्र एसएसपी अनंत देव को बता रहे हैं कि चौबेपुर के दरोगा विनय तिवारी उनकी बात नहीं सुनते।

विनय तिवारी सस्पेंड किया जा चुका है और चौबेपुर थाने का पूरा स्टाफ जांच के दायरे में है। इसलिए पुलिस लाइन से 10 कांस्टेबलों को आज मंगलवार को चौबेपुर पुलिस स्टेशन में ट्रांसफर कर दिया गया है। विकास दुबे के मामले में 21 नामजद आरोपी है। जिनमें से दो मारे जा चुके हैं और आज एक मुठभेड़ के दौरान घायल हुआ है। लेकिन गैंगस्टर विकास दुबे का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here