चीन सीमा के पास होने वाले युद्ध अभ्यास में, भारतीय सेना करेगी आधुनिक हथियारों का उपयोग

➤ अक्टूबर में सेना व वायु सेना करेंगे साझा युद्ध अभ्यास।
➤ एम 777 तोप व चिनूक हेवी लिफ्ट हेलीकॉप्टरों का उपयोग सेना करेगी।
➤ युद्ध अभ्यास चीन सीमा के समीप होगा।
➤ 5000 जवान इस युद्धाभ्यास में लेंगे भाग।

भारतीय सेना व वायुसेना अगले महीने अक्टूबर में साथ मिलकर चीन बॉर्डर के पास युद्ध अभ्यास करेंगे। जिसमें कुल 5000 से अधिक जवान भाग लेंगे यह युद्ध अभ्यास चीन बॉर्डर के समीप अरुणाचल प्रदेश में किया जाएगा। और इसमें अति आधुनिक हथियारों का उपयोग सैनिक करते नजर आएंगे।

युद्ध अभ्यास में एम 777 व अमेरिकी हथियारों का उपयोग

भारतीय सेना इस बार होने वाले युद्ध अभ्यास में कई आधुनिक हथियारों व एम 777 तोप का उपयोग करते नजर आयेगी। साथ ही चीनूक हेवी लिफ्ट हेलीकॉप्टरों का उपयोग भारतीय वायु सेना करेगी। युद्ध अभ्यास काफी बड़े स्तर पर किया जाएगा। जिसमें देशी व विदेश सभी प्रकार के हथियारों का उपयोग सेना करेगी।

सेना ने घाटी से किया जाकिर मूसा गिरोह का खात्‍मा, ललहारी ढेर

एम 777 व चिनूक की खासियत

एम 777 हैवेल्जर तोप है, जो 30 किलोमीटर तक मारक क्षमता रखती है। इसे भारत चीन सीमा पर तैनात किया गया है। चिनूक हेलीकॉप्टर बोइंग द्वारा बनाया गया है यह एक अमेरिकी कंपनी है। ये हेलीकॉप्टर बहुत अधिक वजन उठाने में सक्षम है। तथा ये हेलीकॉप्टर सेना के लिए भारी समान एक जगह से दूसरे स्थान तक ले जा सकता है। इसका उपयोग बहुत सारे सैनिकों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने व इंधन को तथा हथियारों को ढोने में किया जाता है।

पाकिस्तान व चीन को होगा भारत की ताकत का एहसास

अक्टूबर में होने वाले सेना व वायु सेना के युद्ध अभ्यास को चीन सीमा के निकट किया जा रहा है। जिसमें भारत के 5000 सैनिक भाग लेंगे और सेना आधुनिक हेलीकॉप्टर तोप आदि का उपयोग करते नजर आयेगी। इससे हमारे पड़ोसी देश चीन तथा पाकिस्तान को भारत की शक्ति का एहसास होगा और पाकिस्तान जो युद्ध की धमकी देता रहता है उसे भी समझ आ जाएगा कि भारत के साथ युद्ध करना उसे कितना महंगा पड़ सकता है।