राजस्थान में 100 बच्चों की मौत पर कांग्रेस की हुई आलोचना

Congress criticized
google

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा पूर्व मुख्यमंत्री व बहुजन समाज पार्टी (BSP) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने राजस्थान के कोटा ज़िले में 100 बच्चों की मौत के बाद कांग्रेस पर निशाना साधा है। दोनों ने राजस्थान में कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर उदासीन व गैर ज़िम्मेदार रवैया अपनाने का आरोप लगाया है। मायावती ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी पर तंज़ करते हुए कहा है कि कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व चुप्पी साधे हुए है।

कोटा ज़िले में हुए हादसे पर मुख्यमंत्री योगी के दफ्तर ने राजस्थान के CM अशोक गहलोत और प्रियंका गांधी की आलोचना किया है। मुख्यमंत्री योगी के दफ्तर से ट्वीट करते हुए कहा गया है कि “श्रीमती वाड्रा अगर यू.पी. में राजनीतिक नौटंकी करने की बजाय उन गरीब पीड़ित माताओं से जाकर मिलतीं,जिनकी गोद केवल उनकी पार्टी की सरकार की लापरवाही की वजह से सूनी हो गई है तो उन परिवारों को कुछ सांत्वना मिलती। इनको किसी की न चिंता है,न कोई संवेदना, जनसेवा नहीं सिर्फ राजनीति करनी है”।

दफ्तर ने साथ ही ट्वीट में कहा कि “राजस्थान में कांग्रेसी सरकार, वहां के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी की उदासीनता, असंवेदनशीलता व गैर-जिम्मेदाराना रवैया और इस मामले में चुप्पी साधे रहना मन दुखी कर देने वाला है”। एक अन्य ट्वीट में कहा कि “कोटा में करीब 100 मासूमों की मौत बेहद दुःखद और हृदय विदारक है। माताओं की गोद उजड़ना सभ्य समाज,मानवीय मूल्यों और संवेदनाओं पर धब्बा है। अत्यंत क्षोभ है कि कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी,कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका वाड्रा महिला होकर भी माताओं का दुःख नहीं समझ पा रहीं”।

दिल्ली प्रदूषण पर गौतम की हुई आलोचना

वहीँ बसपा सुप्रीमों मायावती ने ट्वीट करते हुए कहा कि “कांग्रेस शासित राजस्थान के कोटा जिले में हाल ही में लगभग 100 मासूम बच्चों की मौत से माओं का गोद उजड़ना अति-दुःखद व दर्दनाक। तो भी वहाँ के सीएम श्री गहलोत स्वयं व उनकी सरकार इसके प्रति अभी भी उदासीन, असंवेदनशील व गैर-जिम्मेदार बने हुए हैं, जो अति-निन्दनीय”। दूसरा ट्वीट करते हुए मायावती ने कहा कि “किन्तु उससे भी ज्यादा अति दुःखद है कि कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेतृत्व व खासकर महिला महासचिव की इस मामले में चुप्पी साधे रखना। अच्छा होता कि वह यू.पी. की तरह उन गरीब पीड़ित माओं से भी जाकर मिलती, जिनकी गोद केवल उनकी पार्टी की सरकार की लापरवाही आदि के कारण उजड़ गई हैं”।

मायावती ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि “यदि कांग्रेस की महिला राष्ट्रीय महासचिव राजस्थान के कोटा में जाकर मृतक बच्चों की ‘माओं’ से नहीं मिलती हैं तो यहाँ अभी तक किसी भी मामले में यू.पी. पीड़ितों के परिवार से मिलना केवल इनका यह राजनैतिक स्वार्थ व कोरी नाटकबाजी ही मानी जायेगी, जिससे यू.पी. की जनता को सर्तक रहना है”।