बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटे के घर से बरामद हुए हथियार

उत्तर प्रदेश लखनऊ के बसपा विधायक मुख्तार अंसारी के दिल्ली के बंसतकुंज स्थित घर पर आज यूपी पुलिस ने छापा मारा। लखनऊ क्राइम ब्रांच और दिल्ली पुलिस ने साझा ऑपरेशन में बड़ी कामयाबी हासिल की है। बता दें की बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है। दिल्ली स्थित वसंतकुंज आवास पर आर्म्स एक्ट के तहत उनके यहां छापा मारकर काफी संख्या में हथियार बरामद किए गए हैं। लखनऊ पुलिस ने छह असलहे और 4431 कारतूस समेत भारी मात्रा में शस्त्र सामग्री बरामद की है। यह कार्यवाही पूर्व में लिखे एक मुकदमे के तहत की गई।

Recovered weapon

कई विदेशो के हथियार हुए बरामद

सूत्रों मुताबिक बता दें की बरामद हथियारों में ज्यादातर हथियार विदेशो बरामद है। जिनमे से ऑस्ट्रेलिया ,इटली स्लोवेनिया के बने हुए हथियार रिवाल्वर ,बंदूख और कारतूस शामिल है। स्लोवेनिया से लाई गई एक रायफल जिसमें .223, .357, .300, .30, .30-60, .308 व .458 बोर के सात स्पेयर बैरल हैं। ऑस्ट्रिया की .380 ऑटो बोर की ग्लॉक-25 पिस्टल की एक स्लाइड बैरल, ऑस्ट्रिया की ही .40 बोर की ग्लॉक-23 जेन-4 की एक स्लाइड बैरल, .22 बोर की एक अन्य विदेशी पिस्टल का स्लाइड बैरल, ऑस्ट्रिया की .380 बोर की एक मैगजीन, ऑस्ट्रिया की .40 बोर की एक मैगजीन व ऑस्ट्रिया का ही एक लोडर भी पुलिस ने बरामद है।

इससे पहले भी कई मुकदमे रह चुके है मुख्तार अंसारी पर

बता दें कि अब्बास अंसारी पर हत्या, किडनैपिंग और फिरौती के कई मामले दर्ज हैं। इनके पिता मुख्तार अंसारी का पूर्वी यूपी के वाराणसी, जौनपुर, गाजीपुर और मऊ में काफी बोलबाला है। अपराध के जगत से राजनीति का सफर तय करने वाले अंसारी मऊ विधानसभा क्षेत्र से पांचवीं बार विधायक हैं। अंसारी पर हत्या, किडनैपिंग और फिरौती के कई मामले दर्ज हैं।

कई फर्जी लाइसेंस जारी करवाए

पुलिस ने बताया की अब्बास अंसारी के एक लाइसेंस में पांच असलहे खरीदने के मामले का खुलासा एसटीएफ की जांच में हुआ था। बता दें की एसटीएफ ने उत्तर प्रदेश में अपराधिक छवि के लोगों को दिए गए शस्त्र लाइसेंस की जांच शुरू की जिसमें मुख्तार और उसके करीबी रिश्तेदारों के नाम नौ लाइसेंस जारी होने का खुलासा हुआ। इसमें से तीन शस्त्र लाइसेंस मुख्तार और उसके बेटे अब्बास के नाम पाए गए। जांच में पता चला कि अब्बास ने जिला प्रशासन की अनुमति और स्थानीय पुलिस को सूचना दिए बगैर अपना शस्त्र लाइसेंस दिल्ली स्थानांतरित करा लिया। दिल्ली में उसने राष्ट्रीय स्तर का निशानेबाज होने के आधार पर उक्त लाइसेंस पर चार और असलहे खरीद लिए। पुलिस का कहना है कि एक ही शस्त्र दो प्रदेशों में अलग-अलग शस्त्र लाइसेंस व अलग-अलग यूआईडी पर एक साथ अंकित होना शस्त्र अधिनियम का उल्लंघन करना है।

जाने कौन है माफिया

अपराध जगत से राजनीति का सफर तय करने वाले अंसारी मऊ विधानसभा क्षेत्र से पांचवीं बार विधायक हैं। अंसारी पर हत्या, किडनैपिंग और फिरौती के कई मामले दर्ज हैं। अंसारी लखनऊ के मेट्रो निशातगंज का रहने वाला है।अब्बास के असलहों के रिकार्ड मंगाने के बाद छापे की तैयारी की गई। एसपी ट्रांस गोमती ने डीसीपी/एसीपी साउथ वेस्ट सफदरगंज इन्क्लेव नई दिल्ली से संपर्क कर स्थानीय स्तर पर सहयोग मांगा और कोर्ट से सर्च वारंट लेकर दिल्ली पहुंच गई।अब्बास ने खुद को राष्ट्रीय स्तर का शूटर बताकर विभिन्न बोर के असलहे खरीदे हैं। राष्ट्रीय स्तर के शूटर को सरकार न सिर्फ एक ही लाइसेंस पर कई असलहे खरीदने का लाभ देती है। बल्कि ऐसे व्यक्तियों को असलहों की कीमत में भी छूट मिलती है। अब्बास ने राष्ट्रीय स्तर के शूटर होने से संबंधित दस्तावेज पुलिस को दिए हैं। महानगर इंस्पेक्टर अशोक कुमार सिंह का कहना है कि दस्तावेजों की छानबीन कराई जा रही है।