न्यूज़ एंकर पति ने की थी पत्नी की हत्या: इटावा पुलिस

यूपी में इटावा पुलिस ने न्यूज एंकर की पत्नी दिव्या मिश्रा की हत्या का खुलासा कर लिया है। पुलिस ने उसके पति समेत तीन टीवी पत्रकारों को गिरफतार किया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार मिश्रा ने कहा कि 14 अक्टूबर को दिव्या मिश्रा को उसके कटरा बलसिंह स्थित आवास की तीसरी मंजिल पर दो से तीन बजे के बीच हत्या कर दी गई थी । उन्होंने बताया कि दिव्या मिश्रा हत्याकांड का खुलासा पुलिस ने चौथे दिन किया।

पति का महिला पत्रकार से अवैध संबध

संतोष कुमार मिश्रा ने बताया कि पुलिस की पूछताछ मे कई बातों का खुलासा हुआ। खुलासे में पता चला कि न्यूज एंकर अजितेश मिश्रा की एक न्यूज चैनल मे काम करने वाली महिला पत्रकार से अवैध संबध थे। उसके बाद से अजितेश मिश्रा अपनी पत्नी को बीच से हटाना चाहता था। इसी के चलते पति पत्नी के बीच तकरीबन 8 माह से तनाव चल था।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस हत्याकांड में अजितेश मिश्रा, पत्रकार अखिल कुमार सिंह और महिला साथी भावना आर्या को गिरफतार किया गया है। न्यूज चैनल में काम करने वाली पत्रकार भावना आर्या से संबधो के चलते हत्या की वारदात को अंजाम दिया गया है। उन्होंने बताया कि भावना के इस्तीफा देने के चलते अजितेश ने भी 30 सितम्बर को एफ.एम.चैनल को छोड दिया था। इस हत्या की वारदात को अंजाम अखिल सिंह ने दिया। अखिल सिंह एफ.एम.चैनल में अजितेश के साथ काम ही काम करते थे।

एडीजी ने सुरक्षा के मद्देनज़र किया अयोध्या का दो दिवसीय दौरा

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि दिव्या का मुंह बोला भाई बन कर अखिल सिंह रहता था। और नोएडा में दिव्या ने उसको राखी भी बांधी थी। परन्तु जब वो दिव्या को मारने आया तब दिव्या ने अपनी शादी का एलबम दिखाया था। एलबम देखकर अखिल ने दिव्या को मारने का इरादा छोड़ दिया था। लेकिन दिव्या के पति अजितेश ने उसपर हत्या करने के लिए दबाब डाला।

गिरफ्तार हुए 3 आरोपी 

उन्होंने बताया कि दिव्या की हत्या का खुलाशा उसके मोबाइल से हुआ। दिव्या का बच्चा शादी के चार साल बाद में न होना भी हत्या की वजह में से एक है। पुलिस की जांच में दिव्या के पति न्यूज एंकर अजितेश मिश्रा द्वारा हत्या को अंजाम दिया गया है। उसके बाद पुलिस ने 3 आरोपियों को हत्याकांड में गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस अधीक्षक अजितेश भावना से शादी करना चाहता था इसलिए वह पत्नी को रस्ते से हटाना चाहता था। इसके लिए अजितेश ने एक रात अपने साथी अखिल को शराब पिला कर हत्या को अंजाम देने में हामी भरवा ली। इसी कडी मे अखिल 14 अक्टूबर को इटावा आया और दिव्या के घर पर होशियारी से पहुंचा। उसके बाद दिव्या और अखिल चाय पीकर फ्री हो गए। फिर अखिल ने दिव्या के सिर पर गुलदस्ता मारकर हत्या कर दी और बडे ही आराम से घर से हत्या की वारदात को अंजाम देकर निकल गया।

इस सफलता से पुलिस अधीक्षक ने दिव्या हत्याकांड का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को 15000 रूपये का इनाम देने का भी ऐलान किया।