निर्भया को न्याय : आखिरकार दोषियों को हुई फांसी, जानें क्या थी उनकी अंतिम इच्छा ?

nirbhayaa justice
google

16 दिसंबर 2012 को देश की राजधानी में ह्त्या, सामूहिक दुष्कर्म और बर्बरता की शिकार हुई निर्भया को आखिर न्याय मिल ही गया। दिन शुक्रवार 20 मार्च तड़के चारों दोषियों को फांसी दे दी गयी। गौरतलब है की फांसी से महज तीन घण्टे पहले उच्चतम न्यायलय ने एक दोषी की याचिका ख़ारिज कर उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया।

हैदराबाद एनकाउंटर घिरा सुप्रीम कोर्ट के सवालो से

दोषियों को फांसी देने से पहले उनकी आखिरी इच्छा पूछी गयी लेकिन उनमें से किसी ने भी कोई इच्छा नहीं जाहिर की। निर्भया की माँ ने कहा की मैं जैसे ही कोर्ट से आयी, अपनी बेटी के आगे हाथ जोड़ी और कहा की बेटा आज तुमको न्याय मिल गया। उन्होने कहा की ये सात साल का संघर्ष था और अंत में उन्हें फाँसी पर लटका दिया गया है , आज का दिन देश की बेटियों के नाम, हमारे महिलाओं के नाम क्यूंकि आज  निर्भया को इन्साफ मिला। साथ ही उन्होंने देश की न्याय व्यवस्था और देश के राष्ट्रपति समेत सभी मातहतों का धन्यवाद किया।

हैदराबाद कांड को लेकर मायावती ने बोला भाजपा पर हमला

पूरे देश को झकझोर देने वाले इस मामले के चारों दोषियों मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को सुबह साढ़े पांच बजे तिहाड़ जेल में फांसी दे दी गई। निर्भया मामले के चारों दोषियों के शव पोस्टमार्टम के लिए दीनदयाल उपाध्याय (डीडीयू) अस्पताल ले जाया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here