योगी का काशी की स्वच्छता पर विशेष ध्यान

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वच्छता पर विशेष जोर देते हुए कहा कि स्वच्छता में काशी को देश में नंबर-1 पर करना है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा फरवरी, 2019 में चार अरब 36 करोड़ 93 लाख रुपए के लोकार्पित 13 परियोजनाएं पूर्ण किये जा चुके हैं। इस वर्ष में अरबों रुपए की 25 प्रमुख परियोजनाएं पूरी करनी है। कशी को दीपावली से देव दीपावली तक जगमग करना है। दीपावली से पूर्व शहर से लेकर गांव तक विशेष सफाई अभियान चलाकर पूरा शहर कूड़ा रहित करें। सड़कों पर, पार्कों में व खाली प्लाटों में कहीं कूड़ा नहीं दिखे। सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट अच्छा रखा जाए। लोक निर्माण विभाग समस्त सड़कें 30 अक्टूबर तक गड्ढा मुक्त कराए। उन्होंने बताया कि प्लास्टिक के विरुद्ध अभियान में 37 लाख रुपये का जुर्माना किया जा चुका है। छठ पूजा से पहले घाटों की सफाई हो जानी चाहिए।

योगी ने स्वच्छता पर किया अधिकारियों को सचेत

योगी ने अधिकारियों को सचेत किया कि शासकीय योजनाओं का दुरुपयोग नहीं होना चाहिए। गरीब, वंचित, जरूरतमंद व्यक्ति शासकीय योजनाओं के लाभ से वंचित नहीं रहे। निराश्रित गोवंश की व्यवस्था की गई है, जरूरतमंद व्यक्तियों के लिए। शहर में जलजमाव नहीं रहना चाहिए। 3 दिन में सभी जलजमाव ड्रेन आउट कर वहां कीटनाशकों का छिड़काव, फागिंग व स्वास्थ्य विभाग द्वारा विशेष हेल्थ कैंप लगवाए जाएं। काशी की स्वच्छता, विकास कार्य व लाभार्थीपरक कार्यों का जिला व मंडल स्तर पर सतत पर्यवेक्षण हो जाना चाहिए।

स्वच्छता एवं पॉलीथिन उन्मूलन पुस्तक वितरण सम्मान समारोह हुआ प्रारम्भ

योगी ने कहा बड़े निर्माण कार्य के दौरान वहां सुरक्षा मानकों का पूरा पालन किया जाए। दीपावली से पहले बैंकों के विशेष लोन मेले आयोजित होने चाहिए। जीएसटी पर व्यापारियों के साथ वर्कशॉप कर उन्हें जीएसटी के बारे में बताया जाए। योगी ने स्पष्ट संकेत दिए कि गैर जिम्मेदाराना रवैया से जनहानि की आशंका, भ्रष्टाचार की बू आने वाले मानकों में संबंधितो की उत्तरदायित्व निर्धारित कर जेल भेजने की कार्रवाई होगी। कार्यो का पूरी गुणवत्ता से पूर्ण करना है। छोटी गलती बड़ा रूप ले लेती है। योगी ने आगामी त्योहारों के दृष्टिगत कानून एवं शांति व्यवस्था पर ध्यान देने के निर्देश दिए हैं।

कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने विकास एवं निर्माण पावर प्ले के माध्यम से प्रस्तुतीकरण किया। समीक्षा के दौरान पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय परिसर में निर्माणाधीन 50 बेड के महिला मेटरनिटी विंग के धीमी प्रगति की जानकारी योगी को मिली। उसके बाद योगी द्वारा इसका कारण पूछे जाने पर कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि कार्यदायी संस्था राजकीय निर्माण निगम द्वारा ठेकेदार को कार्य का ड्राइंग विलंब से उपलब्ध कराए जाने का कारण बताया। उन्होंने बताया कि इस बाबत ठेकेदार से एफिडेविट लिया गया है और राजकीय निर्माण निगम के परियोजना प्रबंधक के द्वारा बताए गए जानकारी की भी जांच हमने की है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि जिम्मेदारी निर्धारित कर कार्यवाही सुनिश्चित कराई जाए।      

इस बैठक में उत्तर प्रदेश के पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉक्टर नीलकंठ तिवारी, एमएलसी डॉ लक्ष्मण आचार्य, एमएलसी अशोक धवन, स्टांप राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) जायसवाल, विधायक सौरभ श्रीवास्तव सहित एडीजी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आनंद कुलकर्णी, आईजी विजय सिंह मीणा, जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह, मुख्य विकास अधिकारी गौरांग राठी सहित अन्य विभागीय अधिकारी वहां मौजूद हुए।