विश्व डॉक्टर डे : कोरोना काल में सिद्ध हुआ,डॉक्टर भगवान का रूप

इटावा :। आज विश्व डॉक्टर डे पर इटावा के सुशीला हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेन्टर के इटावा डॉक्टर डी के सिंह ने आज विश्व भर के डॉक्टरों को शुभकामनाएं दी और देश भर में कोरोना काल मे भी अपने जान को जोखिम में डाल कर काम कर रहे डॉक्टर की सराहना की।

इटावा डॉक्टर डी के सिंह ने बताया हर साल 1 जुलाई को देशभर में डॉक्टर्स डे मनाया जाता है। 1 जुलाई को देश के महान चिकित्सक और पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री रह चुके डॉक्टर बिधानचंद्र रॉय (Dr. Bidhan Chandra Roy) का जन्मदिन और पुण्यतिथि होती है। वह हमेशा ही पब्लिक की सेवा में लगे रहे। यह दिन उन्हीं की याद में मनाया जाता है।

इसके अलावा यह खास दिन स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम करने वाले उन तमाम डॉक्टरों को समर्पित है जो हर परिस्थिति में डॉक्टरी मूल्यों को बचाए रखते हुए अपना फर्ज निभाते हुए मरीजों को बेहतर से बेहतर इलाज मुहिया कराते हैं। भारत सरकार ने सबसे पहले नेशनल डॉक्टर डे साल 1991 में मनाया था।

डॉक्टर डी के सिंह ने ये भी कहा कि कोरोना काल मे डॉक्टर और पेशेंट के बीच जो भी दूरी आयी है उसे भी जल्द दूर कर दिया जाएगा डॉक्टर को लोग भगवान का रूप मानते है और ये इस कोरोना काल मे सिद्ध हुआ है।

रिपोर्ट :- चंचल दुबे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here