यूपीपीसीएल कर्मियों का चुका देंगे पूरा पैसा: डीएचएफएल

dhfl pf scam
image source google

उत्तर प्रदेश पावर कार्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) के कर्मचारियों का पैसा दीवान हाउसिंग फाइनेंस कार्पोरेशन लिमिटेड (DHFL) में जामा कराए जाने को लेकर तरह तरह की ख़बरें सामने आ रही हैं। इसी बीच डीएचएफएल ने लिखित बयान जारी करते हुए कहा है कि “यूपीपीसीएल सीपीएफ ट्रस्ट और यूपी स्टेट पावर सेक्टर एम्प्लाई ट्रस्ट ने कंपनी में कुल 4132 करोड़ रुपये का मूलधन जमा किया है जिसमे से अब तक 208 करोड़ रुपये के ब्याज के साथ 2072 करोड़ रुपये वापस किये जा चके हैं”।

google

डीएचएफएल ने स्वीकार करते हुए कहा कि 30 सितंबर के बाद से बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश के चलते 512 करोड़ रुपये के ब्याज का भुगतान नहीं किया गया है और भरोसा दिलाया है कि इसके लिए जल्द ही कोई न कोई रास्ता खोज लिया जाएगा। कंपनी ने बताया कि ऋणदाताओं के भुगतान पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दिया है जबकि इससे पहले कंपनी ने किसी भी मैच्योर हुई सावधि जमा (FD) का समय रहते भुगतान किया है।

google

डीएचएफएल का कहना है कि यूपीपीसीएल सीपीएफ ट्रस्ट और यूपी स्टेट पॉवर सेक्टर एम्प्लाई ट्रस्ट का 30 सितंबर तक का सारा हिसाब बिलकुल साफ़ है और जो भी पैसा इन दोनो संस्थाओं से लिया गया था वो नेशनल हाउसिंग बैंक के दिशा-निर्देशों पर ही लिया था और इसमें किसी को कोई भी धोखा नहीं दिया गया है। कंपनी ने बताया कि हाईकोर्ट का आदेश आने के बाद से 456 करोड़ रुपये की राशि परिपक्व हो चुकी है जोकि ब्याज सहित 512 करोड़ रुपये बनता है। इसका भुगतान हाईकोर्ट का आदेश के आने के बाद रोकना पड़ गया।

UPPCL घोटाला मामले में अनिल दुबे ने किया सीबीआई जांच की मांग

डीएचएफएल कंपनी ने आगे बताया कि दोनों संस्थाओं के 1812 करोड़ रुपये की एफडी अभी परिपक्व होना रह गई है जो 340 करोड़ रुपये के ब्याज सहित 2152 करोड़ रुपये बनेगी। कंपनी ने इन दोनों संस्थाओं के सभी नियम और शर्तों का पालन किया है। साथ ही बताया कि कंपनी हर तरह से कोशिश कर रही है कि बकाया सावधि जमा की परिपक्व राशि को वापस करने में कोई परेशानी ना हो।