यूएनएचआरसी ने पाकिस्तान के प्रस्ताव को ठुकराया

कश्मीर मुद्दे पर दुनिया भर में अपनी बेजती करा चुके पाकिस्तान की अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेजती हो गयी है। पाकिस्तान जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद से ही, दुनिया भर के देशों से मदद की गुहार लगा रहा है। पर कोई भी देश पाकिस्तान की मदद करने के लिए आगे नहीं आया। इसी की वजह से यूएनएचआरसी ने पाकिस्तान की इस मांग को ठुकरा दिया है।

पाकिस्तान नहीं जुटा पाया समर्थन

यूएनएचआरसी में 47 सदस्य देश शामिल हैं और वहां पर किसी प्रस्ताव को पेश करने के लिए कम से कम 16 देशों के समर्थन की आवश्यकता होती है जो कि पाकिस्तान नहीं जुटा पाया। इसीलिए यूएनएचआरसी ने पाकिस्तान की मांग को ठुकरा दिया और पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी भारत से हार का सामना करना पड़ा।

एफएटीएफ पाकिस्तान की किस्मत का फैसला आज करेगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले ही भारत से सभी देशों को संदेश दे दिया था कि जम्मू कश्मीर हमारा आंतरिक मामला है और उसके बाद G-7 शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति व अन्य देशों के प्रमुखों के सामने जम्मू कश्मीर मुद्दे पर किसी भी देश को मध्यस्थता करने से साफ इनकार कर दिया था। जिसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति भी अपने मध्यस्थता वाले बयान से पीछे हटते नजर आए।

यूरोपीयन यूनियन ने किया भारत का समर्थन

बीते बुधवार को यूरोपीय यूनियन की संसद में जम्मू कश्मीर मुद्दे पर बात करते हुए कहा कि “भारत में आतंकवादी चांद से नहीं आते वे पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से आते हैं”शांति के लिए पाक भारत से बातचीत करके जम्मू कश्मीर मुद्दे को समझाये ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here