cop26 में भारत की वजह से टर्की को लगी मिर्ची, जाने पूरा मामला

turkey protests cop26

हाल ही में हुए ग्लासगो (Glasgow) जलवायु शिखर सम्मेलन में दुनिया के बड़े-बड़े देश जहाँ जलवायु परिवर्तन की चुनौती से निपटने के लिए चर्चा करने आये थे तो वहीँ तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन नाराज मौसा जी की तरह सादी में नहीं आये (यानि शिखर सम्मेलन में शामिल नहीं हुए)। इसका कारण उन्होंने भारत को बताया है। तो आईये जानते है क्या है वजह।

दरअसल ग्लासगो जलवायु शिखर सम्मेलन (Glasgow Climate Summit) में शामिल होने के लिए भारत, अमेरिका, ब्रिटेन, स्पेन, फ्रांस, जर्मनी, तुर्की और कनाडा जैसे कई देशों के लीडर्स पहुंचे थे। आपको बता दें ऐसा जब भी कोई सम्मलेन होता है तो विभिन्न देशों के राष्ट्रध्यक्षों के ठहरने की अलग-अलग व्यवस्था की जाती है। लेकिन ग्लासगो में में इतनी सुविधा नहीं थी कि सभी को VVIP ट्रीटमेंट दिया जा सके।

जिसे देखते हुए UK ने विभिन्न देशों के राष्ट्रध्यक्षों से Hotel को साझा करने का अनुरोध किया और बताया कि सम्मेलन वाली जगह पर सभी को बसों के द्वारा ले जाया जायेगा। सभी देशों को इसके बारे में सूचित किया गया और वे तैयार हो गए। इसके बाद ग्लासगो जलवायु शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए सभी लीडर्स पहुंचे, लेकिन तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन (Turkey President Erdogan) इसमें शामिल नहीं हुए।

तुर्की राष्ट्रपति एर्दोगन की नाराजगी की वजह?

जब उनसे इतने बड़े और महत्वपूर्ण सम्मलेन में शामिल न होने कि वजह पूछी तो उन्होंने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि “भारत का विशेषाधिकार प्राप्त व्यवहार को क्या माना जाए?” अब समझ नहीं आता कि एर्दोगन को VVIP ट्रीटमेंट नहीं मिला वो इस लिए जराज थे या भारत को VVIP ट्रीटमेंट मिला इससे नाराज थे। खैर छोड़िये, नाराजगी कि असली वजह तो मौसा जी ही जानते होंगे।

प्रियंका ने प्रतिज्ञा सम्मलेन में किया चुनावी रण का ऐलान

आपको बता दें भारत के पीएम नरेंद्र मोदी, अमेरिका के राष्ट्रपति जोई बाइडेन और UK के पीएम बोरिस जॉनसन अपने अलग-अलग होटलों में रुके और 1 नवंबर को कारों के काफिले के साथ शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए पहुंचे। बस इसी बात से तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन नाराज हो गए कि भारत को स्पेशल ट्रीटमेंट क्यों दिया गया। जबकि उन्हें होटल को शेयर करने और बस में आने के लिए कहा गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here