प्रशासन से तंग ग्रामीणों ने खुद ही बना डाली सड़क

google

पेंड्रा जनपद के अंतर्गत पदगंवा गांव की जर्जर सड़कों से परेशान होकर ग्रामीणों ने खुद ही सड़क बनाने का फैसला कर डाला। गांव के लोग लंबे समय से जनप्रतिनिधि समेत अधिकारियों से गांव की जर्जर सड़क की मरम्मत की मांग कर रहे थे लेकिन आश्वासन के अलावा उनको कुछ नहीं मिल रहा था। परेशान होकर गांव वालों ने सड़क को सुधारने का बीड़ा उठाया। इसमें गांव के बहुत से लोगों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया जिसमे गांव के युवक और बुज़ुर्ग शामिल थे। गांव वालों की मेहनत के बाद सड़क चलने लायक हो गई।

पेंड्रा नगर पंचायत के इस मार्ग की हालत इतनी ख़राब थी कि लोग इस मार्ग से चलने से बचते थे। पदगंवा गांव की आबादी लगभग 4 हजार के करीब है और यह ग्राम पंचायत की मुख्य सड़क है। जर्जर होने की वजह से अक्सर इस सड़क पर दुर्घटनाएं हो रही थी और लोग रात में भी इन सड़कों पर निकालने से बचते थे।

सांसद ने गांव को गोद लेने के बाद टी बी के पांच बच्चों को लिया गोद

पदगंवा गांव की इस सड़क का निर्माण वर्षों पहले प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत हुआ था जिसके बाद से आजतक इस सड़क की तरफ ध्यान नहीं दिया गया। विभाग में कई बार शिकायत करने के बाद भी सुनवाई नहीं हुई जिसके बाद पदगवां गांव के युवकों ने खुद के खर्च से लगभग दो किलोमीटर से भी ज्यादा लम्बी सड़क का निर्माण कर डाला।