जानिए क्या है तबलीगी जमात का पूरा मामला, एक कार्यक्रम ने कैसे देश को डाला संकट में

corona delhi
google

दिल्ली में स्थित निजामुद्दीन में हुए तबलीगी जमात के एक धार्मिक कार्यक्रम ने पूरे देश को बहुत बड़े संकट में डाल दिया। यहां पर 1 मार्च से 15 मार्च तक एक धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। जिसमें 2361 लोगों ने शिरकत की थी। इनमें देश के साथ-साथ अन्य 15 देशों से आए हुए लोग भी मौजूद थे।

जैसा कि आपको पता होगा कि पूरे देश में इस समय लॉकडाउन है और एक स्थान पर दो या तीन से ज्यादा लोगों को एकत्रित होने की अनुमति नहीं है। इसके बाद भी निजामुद्दीन में दो हजार से ज्यादा लोग एकत्रित हुए। स्थानीय लोगों ने इसकी शिकायत जब पुलिस से की तो पता चला कि इनमें से कई को कोरोनावायरस संक्रमण के लक्षण थे और जांच करने पर पता चला कि 24 लोग कोरोनावायरस पॉजिटिव है।

मरकत तबलीगी जमात क्या है ?

मरकत का अर्थ है, वह जगह जहां पर बहुत से लोग एकत्रित हो। तबलीगी का अर्थ होता है, अल्लाह के द्वारा कही गई बातों का प्रचार प्रसार करना और जमात का अर्थ होता है समूह। यानी किसी एक स्थान पर एकत्रित होकर अपने धर्म के बारे में बातें करना और दूसरों को बताना। अर्थात यह उन लोगों का समूह है। जो मुस्लिम धर्म का प्रचार-प्रसार करते हैं और इसके लिए वो देश के साथ-साथ विदेशों में भी जाकर धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन कराते हैं।

15 देशों से आए थे विदेशी

दिल्ली के निजामुद्दीन में मरकत तबलीगी जमात के धार्मिक कार्यक्रम में इंडोनेशिया से 72, श्रीलंका से 34, थाईलैंड से 71, मलेशिया से 20, बांग्लादेश से 19, म्यामार से 33, किर्गिस्तान से 28, नेपाल से 19, फिजी से 4, इंग्लैंड से 13, कुवैत से 2, फ्रांस, अल्जीरिया, जिबूती, अफगानिस्तान से 1-1 मुस्लिम लोग अपने धर्म का प्रचार प्रसार करने के लिए आए थे।

झूठ बोल कर आए भारत

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा है कि तबलीगी जमात में शामिल कई विदेशियों ने झूठ बोलकर वीजा हासिल किया है जो कि नियमों का उल्लंघन है। बता दें किसी भी देश में इस तरह के धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन करने के लिए एक विशेष वीजा लेना होता है। इसके बहुत सख्त नियम होते हैं और यह आवेदन करने के 3 महीने बाद सब कुछ सही होने पर दिया जाता है। इन नियमों से बचने के लिए कई विदेशी टूरिस्ट वीजा पर देशों में जाते हैं और धार्मिक प्रचार पसार करते हैं। जो की पूरी तरह से गैरकानूनी है।

पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

जो लोग इस कार्यक्रम में आए थे और उन्होंने झूठ बोलकर वीजा हासिल किया था। उनके खिलाफ मामला दर्ज हो चुका है। इसके साथ ही 617 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है व बाकियों को क्वॉरेंटाइन कर दिया गया है। बता दे इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले 10 लोगों की कोरोनावायरस की वजह से मौत हो चुकी है। तबलीगी जमात के लोग अन्य राज्यों में भी धर्म का प्रचार प्रसार करने के लिए गए थे। इसलिए अब पुलिस उनके संपर्क में आने वाले लोगों की तलाश में जुटी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here