खत्म हुआ घण्टाघर का धरना प्रदर्शन

lucknow news
google

coronavirus की वजह से आज 22 मार्च को पूरे देश में जनता कर्फ्यू है और इसका असर भी देखने को मिल। पर देश में नागरिकता कानून के विरोध में हो रहे प्रदर्शनों पर इसका कुछ खास असर देखने को नहीं मिला। आज जब पूरा देश जनता कर्फ्यू का पालन कर रहा है।

उसके बाद भी शाहीन बाग व लखनऊ में घंटा घर पर प्रदर्शन जारी रहा जोकि उचित नहीं है। दुनियाभर के विशेषज्ञ व देश भीड़भाड़ से बचने की सलाह दे रहे है। जिससे कोरोना वायरस फ़ैल न सके पर कुछ लोग इस सलाह को दरकिनार कर खुद के साथ दूसरों की भी जान खतरे में डाल रहे है।

लखनऊ में घंटा घर पर आज भी महिलाएं धरना प्रदर्शन कर रही है। सभी प्रदर्शनकारी एक साथ ही बैठे है। जबकि सरकार द्वारा जारी अडवाइजरी में कहा गया है की लोग एकत्रित न हो व भीड़भड़ से बचे। इसके बाद भी प्रदर्श जारी है। वहीँ शाहीन बाग में जनता कर्फ्यू का कम असर देखने को मिला पर कुछ महिलाएं अभी भी प्रदर्शन कर रही है। जबकि इससे पहले पुलिस ने शाहीन बाग जाकर समझाया था की वो प्रदर्शन ख़त्म करे और अपने घर जाये। इसके बाद भी प्रदर्शनकारी धरना स्थल पर बैठे थे।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के 17 जनवरी से CAA और NRC को लेकर विरोध कर रहीं महिलाओं का विरोध प्रदर्शन कल यानि 22 मार्च तक लगातार जारी रहा। हलांकि लखनऊ पुलिस ने महिलाओं को समझा कर वहां से सुरक्षित उनके घर पहुंचा दिया है। बता दे की देश में कोरोना जैसी भयानक बिजबरी के चलते 25 तारीख तक देश के कई जिलों को लॉक डाउन कर दिया गया है।

इसी के चलते आज सुबह 6 बजे महिलाएं घंटाघर पर कर रही थी विरोध प्रदर्शन CAA और NRC को लेकर विरोध कर रहीं महिलाओं का विरोध प्रदर्शन जारी था। पुलिस द्वारा काफी समझाने पर महिलाओं ने किसी तरह प्रदर्शन करना ब्नद कियता लेकिन जाते जाते महिलायों ने कहा की कोरोना खत्म होगा तो
हम फिर वापस आएंगे प्रदर्शन करने। फ़िलहाल पुलिस ने कोरोना के चलते सभी महिलाओं को सुबह 6:00 बजे सुरक्षित घर उनके घर पहुंचा दिया है।

About Author

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here