अमेज़ॉन कंपनी को करोड़ों का चूना लगाने वाले आरोपी गिरफ्तार

एसएसपी लखनऊ कलानिधि नैथानी द्वारा जालसाजी करने वालो के विरुद्ध चलाये जा रहे “ऑपरेशन – 420” अभियान के तहत लखनऊ पुलिस के हाथ लगी एक और बड़ी सफलता। क्षेत्राधिकारी हजरतगंज महोदय के नेतृत्व में साइबर क्राइम सेल लखनऊ द्वारा अमेजॉन कंपनी को कई करोड़ की कीमत के वे-प्रोटीन पाउडर, एप्पल कंपनी के स्मार्ट वॉच व एप्पल कंपनी के अन्य सामान की धोखाधड़ी कर धन अर्जित करने वाले 2 शातिर जालसाज गिरफ्तार, जिनके कब्जे से मोबाइल, सिम, फर्जी स्टीकर, कागजात व अन्य सामान बरामद किया गया। उनके पास से लाखों रुपयों के कीमती सामान और कंपनी के फॉल्‍स स्‍टीकर भी बरामद हुए।

राजस्थान के रहने वाले है दोनों अपराधी

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया की अमेजॉन कंपनी से करोडो की ठगी करने वाले दो जालसाज पकड़े गये है। जिनमे से एक का नाम रोहित सोनी और राहुल सिंह राठौर ये दोनों जालसाज राजस्थान के रहने वाले जयपुर के आईटीआई बीटेक के छात्र है। एसएसपी जी ने बताया की ये दोनों जालसाज अमेजन कंपनी की वेबसाइट पर जाकर फर्जी एकाउंट बनाते थे। जिसके बाद इनका प्रयोग कर ये वे प्रोटीन, एप्‍पल कंपनी की स्‍मार्ट वॉच, डिजिटल गिफ्ट कार्ड व अन्‍य महंगे सामान का आर्डर देते थे। जिसके बाद ऑनलाइन आर्डर कैंसिल कर देते थे। सामान वापसी में वो घटिया सामान और पत्‍थर भरकर नकली स्‍टीकर और पैकिंग करके सामान वापस कर देते थे।

बीजेपी नेता ने किया एसएसपी के इस्तीफे की मांग

कौन है ये जालसाज

झोंटवाड़ा जयपुर का रहने वाला बीटेक कर छात्र सोहित 24 और सीकर हरमाड़ा का रहने वाला आईटीआई का छात्र राहुल सिंह राठौर 26 को गौतमपल्‍ली साइबर टीम ने पकड़ लिया है। जय सोनी मैनेजर अमेजन और शशांक सिंह ने गौतम पल्‍ली पुलिस को धोखाखड़ी की सूचना दी थी। जिसके बाद गौतमपल्‍ली अधीक्षक ने साइबर सेल की मदद से दोनों को पकड़ लिया। इनके पास से प्रोटीन पाउडर, कीमती घडि़यां और एप्‍पल कंपनी की स्‍मार्ट वाच और कई कीमती सामान बरामद हुए है।

करोडो रुपयों की ठगी की

एसएसपी कलानिधि नैथानी के ने बताया की ये दोनों जालसाज अब तक करोड़ो ठगी कर चुके है। उन्होंने बताया की ये जालसाज अब तक जयपुर, राजस्‍थान, दिल्‍ली, महाराष्‍ट्र, पंजाब, बिहार, उत्‍तर प्रदेश, छत्‍तीसगढ़, एवं अन्‍य राज्‍यों में जाकर ठगी कर चुके है ।उनका कहना है की ये दोनों जालसाज लगभग तीन सालों से ये ठगी कर रहे थे। दोनों जालसाजों से बातचीत के दौरान पता चला है की वे समर विहार कालोनी आलमबाग में किराये का मकान लेकर रह रहे थे। जिसके बाद करोड़ों की बुकिंग करके निकल जाते थे।