सीतापुर: प्रशासन लापरवाह, घाघरा नदी मचा रही कोहराम

sitapur news
sitapur news

सीतापुर। यूपी के सीतापुर के रामपुर मथुरा विकासखंड को घाघरा नदी के प्रकोप से बचाने के लिए शासन द्वारा अरबों रुपये खर्च कर बनाये बांधों से घाघरा में छोड़े जा रहे लाखों क्यूसेक पानी की धार के आगे यह सभी भारी-भरकम इंतजाम बौने साबित हो रहे हैं।

sitapur news
Ghaghra flood

घाघरा की विनाश लीला से ग्रामीणों को बचाने के लिए कच्चे बंधे का निर्माण करीब 45 करोड़ की लागत से युद्ध स्तर पर किया गया है परन्तु घाघरा की तेज जलधारा ने बंधे और ठोकरों को ताकत आजमाइश दिखाना शुरू कर दिया है बंदे की तलहटी में बसे गांव में रहने वाले ग्रामीणों की सांसें फूल रही हैं। ग्रामीणों को बाढ़ से बचाने के लिए शासन-प्रशासन कमर तो कसे है ।

sitapur news
sitapur news

परन्तु अभी रामपुर मथुरा विकासखंड के कुछ गांव में घाघरा का पानी घुस जाता है व ग्रामीणों का जीवन अस्त व्यस्त कर देता है आपको बता दें बीते दिनो ही नोडल अधिकारी बाढ़ क्षेत्र का दौरा करने गई थी और उनका दावा था कि क्षेत्र में अगर 5 लाख क्यूसेक पानी भी नदी में छोड़ दिया जाए तब भी सभी गांव सुरक्षित रहेंगे लेकिन आज आई इन तस्वीरों ने जमीनी हकीकत की पोल खोल दी है।

sitapur news
ghaghra flood

रामपुर मथुरा के अरोरा गांव में चारों तरफ पानी भर गया है व ग्रामीण काफी दहशत में है वही ग्रामीणों की माने तो बीते दिनों से वह अपने घरों में नहीं जा पा रहे हैं व अपने कच्चे घर को उजाड़ कर दूसरी जगह विस्थापित होने का प्रयास कर रहे हैं वहीं कई कई दिनों से भोजन न मिल पाने के कारण ग्रामीण भूखे भी सोने को मजबूर हैं अब वह अपना गांव छोड़ ऊंचाई वाली जगहों पर छप्पर , पल्ली तान कर रहने का प्रयास कर रहे हैं , ऐसे में सवाल यह उठता है कि शासन प्रशासन के द्वारा किए जा रहे दावे क्या हवा हवाई ही हैं।

रिपोर्ट- अबरार अहमद (Sitapur)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here