क्यों उत्तर प्रदेश को ऑनलाइन जुए को नियंत्रित करना चाहिए और इसे गैरकानूनी नहीं बनाना चाहिए?

law on online gambling in up
image source - google

भारत एक ऐसा देश है जहां जुआ उसके इतिहास का हिस्सा रहा है, चाहे रामायण हो या महाभारत। परंतु, यदि हम वर्तमान की बात करें तो जुआ ना केवल अवैध बल्कि अनैतिक भी माना जाता है। भारत में online gambling से जुड़े कानूनों पर कोई स्पष्टता नहीं है। चूंकि जुआ भारतीय लोगों में बहुत लोकप्रिय है, वे नियमों में इन अंतरालों का लाभ उठाते हैं और ऑनलाइन ऑपरेटरों पर खाते पंजीकृत करते हैं।

कहीं कुछ अवैध है तो कहीं और, वही चीज़ वैध। जहां गोवा, सिक्किम और दमन जैसे राज्यों में गैंबलिंग वैध है और बड़े जोरों शोरों से चल रहा है। ऑनलाइन केसिनो भी वैध हैं (online casinos are legal in India) क्योंकि भारत के कानून में ऐसा कहीं नहीं लिखा है की ऑनलाइन कैसिनो गैरकानूनी हैं। वहीं यदि हम उत्तर प्रदेश की बात करें, तो बाकी अन्य राज्यों की तरह, ऑनलाइन गैंबलिंग पर काफी सख्त कानून बनाने की मांग हो रही है। लेकिन, ऐसा क्यों हो रहा है?

शायद इसलिए क्योंकि जुए की लत लग सकती है लेकिन यदि सरकार ऑनलाइन गैंबलिंग का नियंत्रण(regulation) सक्षम तरीके से करे, तो काफी लोग जुए की लत से बच सकते हैं। उत्तर प्रदेश भारत का सबसे ज्यादा populated शहर है। और यदि सरकार यहां ऑनलाइन गैंबलिंग का नियंत्रण करे, तो ना केवल यहां के लोगों को बल्कि सरकार को भी काफी फायदे होंगे। आइए जानें कैसे।

क्यों सरकार को ऑनलाइन गैंबलिंग को गैरकानूनी नहीं बनाना चाहिए

ऐसे हो फायदे कही हैं लेकिन आइए डालें नजर कुछ खास बातों पर:

Tax Revenue में वृद्धि

सरकार जुआ गतिविधियों पर tax लगाकर भारी मात्रा में धन इकट्ठा करने में सक्षम हो जायेगी, क्योंकि पहले से ही यह एक बहुत बड़ा बाजार है जो रडार के तहत चल रहा है। वे राजस्व भारतीय अर्थव्यवस्था में बदलाव ला सकते हैं, और सरकार कई सामाजिक संभावनाओं में निवेश करने में सक्षम हो जाएगी। यह केवल भूमि-आधारित कैसीनो और स्पोर्ट्स बुक पर लागू नहीं होता है, बल्कि online gambling market को भी कवर करता है।

Employment के अवसर

विनियमित जुआ बाजार रोजगार की नई संभावनाएं (employment opportunities) भी खोल सकता है। उत्तर प्रदेश भारत का सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है, और यहां के unemployment rate को कम करने के लिए, ऑनलाइन गैंबलिंग एक महत्वपूर्ण दिशा बन सकती है। जुआ उद्योग के नियमन से न केवल राजस्व और नौकरी के नए अवसर प्राप्त होंगे, बल्कि यह vulnerable लोगों को सट्टेबाजी से भी बचाएगा। सरकार मैच फिक्सिंग को रोकने के लिए कैसिनो और स्पोर्ट्स बुक के साथ मिलकर काम काम कर सकती है।

जुआरी की रक्षा में मदद करता है

जब मनुष्यों को कुछ करने से मना किया जाता है, तो वह केवल उन्हें वही चीज़ करने में ज्यादा विचलित करता है। और जब अगर कानून उन्हे, विनियमित फैशन में, यह करने की अनुमति नहीं देती है तब scammers उन्हें अपने झांसे में फसा लेते हैं। लोगों को इन गतिविधियों के लिए भूमिगत होने के लिए मजबूर करके, आप उन्हें अपराधियों के हाथों में धकेल देते हैं – और जहां वास्तविक खतरे पैदा होते हैं। परंतु एक विनियमित ऑनलाइन जुआ बाजार इन सब हादसों से लोगों को बचाता है। इसलिए एक regulated market बहुत फायदेमंद भी है और जरूरी भी।

इस में कोई दोराहे की बात नहीं है कि यदि एक नियंत्रित system हो, तो उत्तर प्रदेश की सरकार को ऑनलाइन गैंबलिंग इंडस्ट्री से केवल फायदा ही होना है। इतनी जनसंख्या वाले राज्य में लोगों को काम और पैसे दोनों मिल जायेंगे जिसका भारतीय अर्थव्यवस्था पर अच्छा ही असर पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here