कश्मीरी पंडितों के विस्थापन पर बनी फिल्म Shikara का ट्रेलर हुआ रिलीज

google

विधु विनोद चोपड़ा (Vidhu Vinod Chopra) की फिल्म ‘शिकारा’ (Shikara The Untold Story Of Kashmiri Pandit) इसी साल 7 फरवरी को रिलीज होने वाली है। इस घटना पर आधारित इस फिल्म को खुद विधु विनोद चोपड़ा ने डायरेक्टर किया है। इस फिल्म के जरिए विधु विनोद चोपड़ा ने निर्देशन की दुनिया में करीब 13 साल बाद अपना कदम रखा है।इस फिल्म में सादिया (Sadia) और आदिल खान (Adil Khan) मुख्य भूमिका निभाते नजर आये है।

पहली बार कश्मीरी पंडितों के विस्थापन पर बनी फिल्म 

कश्मीरी पंडितों के विस्थापन के दर्द को बयां करती विधु विनोद चोपड़ा की फिल्म ‘शिकारा’ का ट्रेलर रिलीज हो गया है। फिल्म में सादिया और आदिल खान लीड रोल प्ले कर रहे हैं। (Shikara The Untold Story Of Kashmiri Pandit) में एक ऐसे कपल की कहानी दिखाई जा रही है। जो 1990 में कश्मीर से बेघर कर दिए गए थे।

2.30 मिनट के ट्रेलर को ही देखकर आँखों में आ गए आँसू 

फिल्म में सादिया और आदिल खान लीड रोल प्ले कर रहे हैं। फिल्म के ट्रेलर में दिखाया गया है कि कैसे शरणार्थी पंडितों को खाने के लिए सिर्फ टमाटर दिए गए थे। करीब 2.30 मिनट के ट्रेलर में कुछ ऐसे डायलॉग्स भी सुनाई दिए हैं जो कश्मीरी पंडितों के हालात बयां कर रहे हैं। ट्रेलर के आखिर में एक्ट्रेस सादिया कह रही हैं- हम आएंगे वतन अपने और यहीं पे दिल लगाएंगे, यहीं मरेंगे और यहीं के पानी में हमारी राख बहायी जाएगी।

30 साल पहले की सत्यघटना 

फिल्म का ट्रेलर जारी करने से पहले फिल्म मेकर्स की ओर से फिल्म का पोस्टर जारी किया गया। इस पोस्टर में एक लड़का और लड़की दिख रहे हैं और पीछे हजारों लोगों की भीड़ है। इससे पहले फिल्म का एक मोशन पोस्टर रिलीज हुआ था और जिसमें लिखा था 1990 में स्वतंत्र भारत में सबसे बड़ा जबरन पलायन हुआ। जिससे 4,00,000 से अधिक कश्मीरी पंडितों को कश्मीर घाटी से रातों-रात छोड़ना पड़ा था। 30 साल बाद ये कहानी फिल्म शिकारा के जरिए कही जाएगी।

फिल्म का प्रोडक्शन फॉक्स स्टार कर रहा है। जिसमें 4 लाख से ज्यादा कश्मीरी पंडितों के घाटी छोड़ने और अपनी जान बचाने के लिए भागने का दर्द दिखाया जाएगा। फिल्म का डायरेक्शन और प्रोडक्शन विधु विनोद चोपड़ा ही कर रहे हैं। फिल्म शिकारा थिएटर्स में 7 फरवरी 2020 को रिलीज होगी।

सत्य घटनाओं पर आधारित इस फिल्म का काफी पसंद किया जा रहा है। फिल्म में विस्थापित कश्मीरी पंडितों की कहानी दिखाने के साथ उस वक्त जो कश्मीर में हालात थे। उन्हें भी दिखाया गया है। साथ ही कश्मीर में हुई इस घटना पर पाकिस्तान के रिएक्शन को भी फिल्म में अच्छे से दिखाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here