भारत के खौफ से हुई थी अभिनंदन की वापसी, पाक पार्लियामेंट में सांसद ने किया खुलासा

Wing Commander Abhinandan
image source - google

विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को जब पाकिस्तान छोड़ने को तैयार हुआ तो सबके मन में कहीं ना कहीं यह सवाल था कि पाकिस्तान इतनी आसानी से और इतनी जल्दी अभिनंदन को छोड़ने के लिए कैसे तैयार हो गया। लेकिन अब पाकिस्तान की संसद में नवाज शरीफ की पार्टी के सांसद आयास सादिक ने खुलासा किया है कि अभिनन्दन को क्यों छोड़ा गया था।

बुधवार को पाकिस्तान की संसद में सांसद आयास सादिक ने बताया कि अभिनन्दन को रिहा करने या न करने को लेकर एक हाई लेवल की मीटिंग बुलाई गयी थी। जिसमें पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी और सेना प्रमुख जनरल बाजवा समेत कई अधिकारी शामिल हुए थे।

पाक सेना अध्यक्ष के कांप रहे थे पैर

पाक सांसद ने बताया कि पीएम इमरान खान को इस मीटिंग में आना था पर वो नहीं आये। सेना प्रमुख जनरल बाजवा मीटिंग में थे, उनके पैर कांप रहे थे और माथे पर पसीना था। विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि विंग कमांडर अभिनंदन को छोड़ दिया जाये नहीं तो भारत रात 9 बजे हमला कर देगा। इसके बाद पाकिस्तान ने 1 मार्च को अटारी-वाघा सीमा से भारत को अभिनन्दन को सौंप दिया।

क्या है पूरा मामला 

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में पिछले साल 14 फ़रवरी 2019 को CRPF के काफिले पर जैश-ए-मोहम्मद नाम के आतंकी संगठन ने आत्मघाती हमला किया था। इस हमले में 40 जवान शहीद हुए थे। इसके 12 दिन बाद 26 फ़रवरी 2019 को भारत ने पाकिस्तान में घुसकर जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन के ठिकानों को बम से उड़ा दिया था। इसमें 250 से 300 आतंकी मारे गए थे।

बौखलाए पाकिस्तान ने अगले दिन 27 फ़रवरी को अपने एफ-21 लड़ाकू विमानों से भारतीय सीमा में प्रवेश करने की कोशिश की। लेकिन भारतीय वायु सेना ने बिना देरी किये कार्यवाही की और पाक के लड़ाकू विमान को मार गिराया। इस दौरान विंग कमांडर अभिनंदन के लड़ाकू विमान मिग-21 में खराबी आ गयी और अभिनन्दन पैरासूट से जमीन पर उतर। थोड़ी देर में उन्हें पता चला की जहां वो उतरे है वो POK (Pakistan Occupied Kashmir) है। इसके बाद पाकिस्तान की सेना ने उन्हें पकड़ लिया था और 48 घंटे के अंदर 1 मार्च को रिहा कर दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here