शाहजहांपुर मेें दुष्कर्म पीड़ित छात्रा से मिलने पहुंचे सपाइयों ने किया धरना प्रदर्शन

चिन्मयानन्द से रंगदारी मांगने के प्रकरण में जेल में निरुद्ध छात्रा से मिलने की होड़ राजनैतिक दलों में प्रारम्भ हो गई है। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर एवं इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ की पूर्व अध्यक्ष ऋचा सिंह के नेतृत्व में सपा का महिला प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को कारागार में बंद दुष्कर्म पीड़ित छात्रा से मिलने पहुंचा तो जेल प्रशासन द्वारा लोगो को पीड़िता से मिलने से रोक दिया गया। इससे नाराज महिला प्रतिनिधिमंडल ने जेल गेट पर धरना दे दिया। प्रतिनिधिमंडल ने यह आरोप लगाया कि सरकार ने चिन्मयानंद को बचाने की कोशिश में छात्रा को एक साजिश के तहत रंगदारी के मामले में जेल भेजा। सपा कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी की। लगभग डेढ़ घंटे तक विरोध प्रदर्शन चलता रहा। प्रदर्शन के बाद सभी पीड़ित छात्रा के घर गए।

स्वामी चिन्मयानंद मामले में भाकपा नेता वृंदा करात और अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति की प्रदेश अध्यक्ष सुभाषिनी अली के दुष्कर्म पीड़ित छात्रा के समर्थन में आने के बाद सपा भी सरकार को घेरने में लग गई। स्थानीय सपा नेताओं और महिला सदस्यों के साथ छात्र संघ की पूर्व अध्यक्ष ऋचा सिंह सुबह करीब 10 बजे जेल गेट पर पहुंचीं। उसके बाद जेल में बंद दुष्कर्म पीड़ित छात्रा से मुलाकात के लिए पर्ची अंदर भेजी गई, लेकिन अंदर से आदेश जारी किया गया कि छात्रा से कोई नहीं मिल सकता। इस बार वहां उपस्थित ऋचा, सपा जिलाध्यक्ष तनवीर खां, पूर्व विधायक राजेश यादव, पूर्व जिला अध्यक्ष प्रदीप पांडेय, पंकज सराफ ने आपत्ति दर्ज की। उन्होंने कहा कि छात्रा से केवल छह महिलाओं का प्रतिनिधि मंडल ही मिलेगा। इस पर भी छात्रा से मुलाकात की इजाजत नहीं दी गयी।

वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा होगी चिन्मयानन्द की रिमांड पेशी

वहां आये प्रतिनिधिमंडल ने जेल गेट पर हंगामा शुरू किया। हंगामा होते देख जेलर राजेश कुमार राय जेल से बाहर आए और उन्हें बताया कि ऊपर से आदेश हैं कि छात्रा से कोई नहीं मिल सकता। इस पर सपाइयों ने आदेश की प्रति दिखाने को कहा तो जेलर आदेश की प्रति नहीं दिखा पाए। इससे गुस्साए सपाई धरने पर बैठ गए। लगभग डेढ़ घंटे तक जेल प्रशासन और प्रदेश सरकार को कोसने के बाद सपा का प्रतिनिधि मंडल स्थानीय सपा नेताओं के साथ पीड़ित छात्रा के घर उनके परिवारजनों से मिलने पहुंचा। प्रतिनिधि मंडल ने छात्रा के पिता और मां व भाई से मुलाकात कर उन्हें आश्वस्त किया कि सपा न्याय की इस लड़ाई में उनके साथ है।

आपको बता दें कि एसएस लॉ कॉलेज की एलएलएम की छात्रा ने पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है, एसआईटी की जांच में स्वामी के खिलाफ धारा 376 के तहत कार्रवाई न करते हुए उनके खिलाफ हल्की धारा 376 सी के तहत कार्रवाई की और छात्रा को स्वामी से पांच करोड़ की फिरौती मांगे जाने के मामले में आरोपी बनाते हुए जेल भेज दिया गया।