क्या रूस के राष्ट्रपति Vladimir Putin ने कर दिया अपने राजनीतिक सन्यास का ऐलान?

Vladimir Putin may resign
image source - google

मॉस्को के राजनीतिक वैज्ञानिक Valery Solovei ने एक न्यूज़ चॅनेल को दिए अपने एक इंटरव्यू में उन अटकलों को और हवा दे दी जिनमें आशंका जताई जा रही थी है की रुसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) पार्किंसन बीमारी से पीड़ित है जिसके चलते वो सत्ता का शीर्ष पद छोड़ने पर विचार कर रहे हैं।

पारिवारिक सहमति से ले रहे संन्यास

राजनीतिक वैज्ञानिक Valery Solovei के मुताबिक़ पुतिन की 37 वर्षीय प्रेमिका ‘Alina Kabaeva’ और उनकी दोनो बेटियाँ उनपर पद छोड़ने का दबाव बना रही है।
ऐसा कहा जहा रहा है की पुतिन राजनीति से अपने सन्यांस और शीर्ष पद छोड़ने की औपचारिक घोषणा जनवरी 2021 में कर सकते हैं।

संसद में प्रस्तावित एक क़ानून से मिला अफवाहों को बल

पुतिन के संभावित प्रस्थान की बात को बल मिला एक नये रुसी क़ानून से ‘ जो पूर्व राष्ट्रपतियों को आपराधिक अभियोजन से जीवन भर की प्रतिरक्षा प्रदान करेगा’ . यह क़ानून राष्ट्रपति के द्वारा प्रस्तावित है, जो रूस की संसद में विधायकों के समक्ष विचाराधीन है।

रूस की संसद में यह क़ानून पारित हो जाने के बाद पुतिन निकट भविष्य में अपने ख़िलाफ़ किसी भी प्रकार के राजनितिक या क़ानूनी ख़तरे की किसी भी संभावना को पूरी तरीके से समाप्त कर देंगे।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन दे सकते हैं इस्तीफा, यह है वजह

पुतिन पिछले कुछ दिनों से सार्वजनिक जगहों पर बहुत कम दिखते हैं। कुछ जगहों पर उनको लगातार पैर हिलाते हुये देखा गया। जिसके बाद से ही पुतिन की बीमारी की अफ़वाहों को बल मिला जो अब सही साबित होती हुयी प्रतीत हो रही हैं।

पुतिन का राजनितिक सफ़र

आप को बता दें की पुतिन रूस अब के सबसे ताक़तवर नेता रहते हुए लगातार चार बार देश के राष्ट्रपति बने हैं।

पहली बार वर्ष 1999 तात्कालिक रुसी राष्ट्रपति Boris Yeltsin के पदत्याग के बाद पुतिन पहली बार रूस के एक्टिंग प्रेसिडेंट बने। उस समय पुतिन रुसी विधायक दल के प्रधान नेता, अर्थात प्रधानमंत्री थे। 7 मई 2000 को पुतिन ने पहली बार रूस के फुल टाइम प्रेसिडेंट पद की शपथ ली।

पहला कार्यकाल !
2000 से 2004 तक वो रूस के राष्ट्रपति रहते हुए उन्होंने कई महत्वपूर्ण फैसले लिये।
दूसरा कार्यकाल !
14 मार्च 2004 को पुतिन दोबारा रूस के राष्ट्रपति चुने गये।

रूस के संविधान के अनुसार कोई भी व्यक्ति दो बार से ज्यादा राष्ट्रपति पद की शपथ नहीं ले सकता ।
2008 में अपना दूसरा कार्यकाल ख़त्म होने के बाद पुतिन फिर से रूस के विधायक दल के नेता बने एवं एक अध्यादेश के द्वारा तीसरी बार राष्ट्रपति बनने के लिए,रूस के संविधान में जरुरी बदलाव किये। 2008 से 2012 तक वह रूस के प्रधानमंत्री रहे।

तीसरा कार्यकाल !

4 मार्च 2012 को राष्ट्रपति चुनाव जीतकर पुतिन तीसरी बार रूस के राष्ट्रपति बने।

चौथा कार्यकाल !

7 मई 2018 को पुतिन ने चौथी बार रूस के राष्ट्रपति का चुनाव जीता और अभी तक उस पद पर बने हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here