युवक को पुलिस ने बनाया बिना किसी जुर्म के अपना शिकार

पुलिस लोगो की रक्षा करती है लोगो को अपराध करने से रोकती है। मगर जब पुलिस ही गलत करे तो देश की रक्षा कौन करेगा। जी हाँ दरअसल गजियाबाद के कनावनी क्षेत्र का यह मामला है। जहाँ एक युवक को पुलिस ने बिना किसी जुर्म के अपना शिकार बनाया। यहाँ कि स्थानीय पुलिस यहां डीजे बजाने को लेकर लोगो का चालान काटने के बाजए उनसे 15 हज़ार रुपये लेकर छोड़ देती है।

जाने क्या था मामला

यह मामला गाजियाबाद स्थित थाना इंदिरापुरम क्षेत्र चौकी कनावनी का है। दरअसल मामला एक विजेंद्र नामक युवक का है जिसका डीजे का बिजनेस है। विजेंद्र के अनुसार उसने अपना डीजे क्षेत्र आम्रपाली के पास अपने दोस्त की बर्थडे पार्टी पर लगाया था। वहां पर उसने अपने यहाँ काम करने वाले एक लड़के को लगाया था और वह अपनी जॉब पर गया था। पुलिस ने करीब 8 से 9 बजे के आसपास के समय उसका डीजे और लड़के दोनों को अपने साथ ले गए।

खाने के बाद सिपाहियों ने नहीं दिए पैसे, किया पिटाई

उसने फिर एक लड़का भेजा जिसे भी पुलिस वालो ने बैठा लिया। जिसके बाद वह खुद गया तो पुलिस वालो ने लड़ाई झगड़ा के केस बनाकर उससे जबरन हस्ताक्षर करवा लिए। जिसके बाद इस बात को लें दें करके सुलझाने की बात हुई तो पुलिस वालो ने उससे बीस हजार रूपए मांगे उसकी कई विनती के बाद पंद्रह हजार रूपए पर बात को खत्म करके उन्हें जाने दिया। वीरेंद्र ने अभी नौ हजार रूपए दे दिए है पर पुलिस अभी भी पांच हजार रूपए मांग रही है।

अब देखना यह है कि क्या इसी तरह पुलिस का चाबुक गरीब जनता पे यूँ ही चलता रहेगा, इसी तरह के मामले चौकी कनावनी पे आते रहते है।