पीएम मोदी, गृहमत्री और रविशंकर प्रसाद ने इमरजेंसी को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना

emergency 1975
image source - google

आज से 45 वर्ष पहले 25 जून 1975 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के कहने पर तत्कालीन राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली ने देश में आपातकाल की घोषणा की थी। इस पर आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि “आज से ठीक 45 वर्ष पहले देश पर आपातकाल थोपा गया था। उस समय भारत के लोकतंत्र की रक्षा के लिए जिन लोगों ने संघर्ष किया, यातनाएं झेली उन सब को मेरा शत-शत नमन। उनका त्याग और बलिदान देश कभी नहीं भूल पाएगा।

इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह ने भी इमरजेंसी को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि आज के दिन ही 45 साल पहले सत्ता के लिए एक परिवार के लालच ने आपातकाल लागू कर दिया रातों-रात राष्ट्र को जेल में बदल दिया गया प्रेस, अदालतें, भाषण.. सब खत्म हो गया। गरीबों और दलितों पर अत्याचार किए गए।

लाखों लोगों के प्रयासों के कारण आपातकाल हटा लिया गया था। भारत में लोकतंत्र बहाल हो गया था। लेकिन यह कांग्रेस में अनुपस्थित रहा। एक परिवार के हित पार्टी के हितों और राष्ट्रीय हितों पर हावी थे। यह खेदजनक स्थिति आज की कांग्रेस में भी पनपती है।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी साधा निशाना

वही केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इमरजेंसी को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा कि 25 जून 1975 को प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की अगुवाई में कांग्रेस सरकार द्वारा इमरजेंसी लगाई गई थी। लोकनायक जयप्रकाश नारायण, भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेई, लालकृष्ण आडवाणी, चंद्रशेखर और भारत के लाखों लोगों सहित प्रमुख विपक्षी नेताओं को गिरफ्तार किया गया। इसके बाद 1977 के चुनाव में भारत के लोगों ने कांग्रेस पार्टी के खिलाफ बड़े पैमाने पर मतदान किया और यहां तक कि इंदिरा गांधी भी हार गई और पहली गैर कांग्रेसी सरकार केंद्र में सत्ता में आई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here