आजकल लोग वेब सीरीज देखना ज्यादा क्यों पसंद करते है ? जानें कारण

Web series
google

आजकल लोग फिल्मों से ज्यादा वेब सीरीज देखना पसंद करते है। उसके बहुत से कारण है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है की वेबसिरिज के मुकाबले अब फिल्मों में दम नहीं रहा। इसका कारण ये भी है की लोगो के पास समय की कमी आजकल के दौर में ज्यादातर लोग अपने अपने काम में इतना ब्यस्त रहते है की उनके पास इतना समय नहीं रहता की वे सिनेमा घरों में जाकर फिल्म देख सके। इसलिए वे अपने समय की बचत के लिए वेबसिरिज देखना पसंद करते है। इसके और भी कारण है। आइये जानते है।

मोबाइल फोन की बेहतर होती तकनीक

एंड्रॉयड और ऐपल फोन के विस्तार ने पहले से स्थापित फेसबुक व यूट्यूब जैसे प्लेटफार्म को पीसी और लेपटॉप से लेजाकर सीधे मोबाइल पर ग्राहकों के हाथों पहुँचाया। जैसे इन्टरनेट तकनीक 3जी हुई लोग काफी सारा वीडियो कान्टेटं मोबाइल पर ही देखने लगे। इधर 4जी के आने के साथ वीडियो स्ट्रीम करना और भी सुविधा जनक हो गया। वाट्सएप जो 2009 मे आरम्भ हुआ सनन 2012–13 तक सनसनी बन गया।लोगों द्वारा आसानी से एक से अधिक वीडीयोस भेजना एक शगल बन गया।

स्मार्ट टीवी

सैमसंग द्वारा पहली बार स्मार्ट टीवी लांच किया गया उसके बाद दर्जनों अन्य चीनी कम्पनियों ने भी इस उभरते बाजार मे अपनी हिस्सेदारी को बढाया। साथ ही साथ टीवी स्क्रीन लेड कीमत भी कम होनी शुरू हो गई।

इंटरनेट का विस्तार

समय के साथ तकनीक मे होते सुधार व इंटरनेट डाटा की कीमतों मे उल्लेखनीय कमी आई। भारत मे नेट डाटा की क्रांति रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अपने महत्वाकांक्षी उद्ययम जियो द्वारा आरम्भ करी गई। जो अन्य भारतीय कम्पनियाँ जैसे एअरटेल, वोडा या आईडिया द्वारा पहले कभी नहीं करी गई थी। जिओ द्वारा शूरुआती पहल मे ग्राहकों को लगातार कई महीने नेट डेटा 1 जीबी प्रतिदिन के आधार पर निशुल्क दिया गया तत्पश्चात डेटा 2और 3 जीबी भी देना आजतक जारी है यद्यपि अब इसकी कीमत देनी पडती है जो उस दौर के अनुपात मे नाममात्र ही है जब अन्य कम्पनियों ने 2 जीबी डाटा प्रति महीने के हिसाब से ग्राहकों की जेब पर डाका डाला था।

उपरोक्त स्थिति को देखते हुए अमेरिकन कम्पनी नेटफ्लिक्स का भारत आगमन हुआ प्रारम्भ मे नेटफ्लिक्स पर अंग्रेजी धारावाहिकों का बोलबाला था किन्तु जल्द ही नेटफ्लिक्स को आभास हो गया कि मथुरा मे रहना है तो राधे राधे कहना है। भारतीय उपमहाद्वीप मे अपनी पकड़ रखनी है तो भारतीय भाषाओं मे कार्यक्रम बनाने होंगे। नेटफ्लिक्स की एंट्री के बाद अमेजन प्राईम वीडियो भी इस खेल का खिलाड़ी बन गया देखते देखते स्टार ग्रुप ने भी अपने मोबाइल ऐप हाटस्टार को उतारा।

बॉलीवुड की सबसे शक्तिशाली अभिनेत्री

उसके बाद तो कलर का वूट, जी टीवी का भी ऐप इस खेल मे शामिल हो गया अब इन सब को लगा कि यदि इस खेल मे लम्बे समय चलना है तो भारतीय और क्षेत्रीय भाषाओं मे कुछ नया करके दिखाना पडेगा। इसी कारण से वेब सीरीज बनने की नींव पडनी आरम्भ हुई। चूंकि वेब सीरीज को लोग व्यक्ति गत रुप से अधिक देखते हैं। वेब सीरीज के सीरियल मे निर्देशक को ज्यादा स्वतंत्रता है इसलिए गालियां व अश्लीलता भी बढ चढ कर दिखाई जाती है । भारतीय लोगों के लिए फिल्में देखना तो आम बात है किन्तु जो वेब सीरीज के द्वारा विषय वस्तु परोसी जा रही है वो उनके लिए कौतूहलता है, वो भी भारत की भाषाओं मे।

About Author

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here