ओवैसी ने नागरिक संशोधन कानून को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

google

हमारे देश में जब से नागरिक संशोधन बिल पास हुआ है। तब से लेकर आज लगातार इस समय कई राज्यों में Citizenship Amendment Bill का कड़ा विरोध किया जा रहा है। लोग बड़ी संख्या में रोड पर उतर आये है। प्रदर्शन करने वालों में ज्यादातर छात्र है।

इसी के चलते आज एआईएमआईएम चीफ और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। अब तक कुल मिलाकर 13 संगठनों ने इस नए कानून के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में मुकदमा दायर किया है। ओवैसी ने इस बिल का विरोध करते हुए कहा था कि भारत में इस तरह का कानून बनाकर आप जिन्ना को जिंदा कर रहे हैं।

नागरिकता संशोधन बिल संविधान की मूल भावना के अनुरूप-सुधांशु

आपको बता दे की नागरिकता संशोधन विधेयक को संसद से मंजूरी मिलने और कानून बन जाने का देश से कई हिस्सों में विरोध-प्रदर्शन हो रहा है। नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विपक्षी पार्टियों से लेकर यूनिवर्सिटियों के स्टूडेंट्स प्रोटेस्ट कर रहे हैं। इस बीच ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन के मुखिया और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने नागिरकता संशोधन कानून को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।

आपको बता दे की एआईएमआईएम नेता ओवैसी ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है। इतना ही नहीं संसद में भी ओवैसी ने इस कानून का विरोध किया था और बिल की कॉपी फाड़ी थी। इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग ने नागरिकता विधेयक को बृहस्पतिवार को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी। इससे एक दिन पहले यह विधेयक राज्यसभा में पारित हो गया।